Wednesday, 22nd November 2017

राजनाथ की हुई भारी फजीहत

Fri, Dec 9, 2016 10:34 PM

नोटबंदी से पैदा जनाक्रोश का पहला सामना केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को फतेहपुर में करना पड़ा जिन्हें भाजपा मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट करने की तैयारी में है। हालात ये हो गई कि कड़ी सुरक्षा के बावजूद, लोगों ने मुर्दाबाद के नारे भी लगाए और काले झंडे भी दिखाए। 

फतेहपुर में परिवर्तन यात्रा में शामिल होने पहुंचे राजनाथ पहले तो भीड़ देखकर गदगद हो गए और रैली को रैला बोलने लगे, लेकिन उनके भाषण के बीच ही रैली में शामिल लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया और नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। नारे लगाने और काले झंडे दिखाने वाले युवक तो मीडिया की गैलरी तक भी पहुंच गए, और राजनाथ यह हालत देखकर अकबका गए।

रैली में आए कुछ लोग तो समाजवादी पार्टी जिंदाबाद के भी नारे लगाने लगे, जिससे राजनाथ और मंचासीन तमाम नेताओं के सामने असहज स्थिति पैदा हो गई।

राजनाथ सिंह की सजातीय राजपूत मतदाताओं की बहुलता वाले इलाके में ही  फजीहत होते देख, भाजपा समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन करने वाले युवाओं के साथ मारपीट शुरू कर दी, तब राजनाथ को थोड़ी राहत मिली। हालाँकि दिखावे के लिए वो अपने समर्थकों से शांत रहने का आग्रह करते रहे, लेकिन स्थिति काबू में आने से मिली राहत उनके चेहरे पर साफ दिख रही थी।

प्रदर्शनकारियों को बाद में पुलिस के हवाले कर दिया गया लेकिन भाजपाई रणनीतिकारों की नींद इस घटना से उड़ गई है। प्रदेशाध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या तो इस मामले में कुछ बोल ही नहीं पा रहे हैं क्योंकि पहले से ही पार्टी में ये चर्चा चल रही है कि केशव मौर्या प्रदेश में अपनी कोई खास छवि नहीं बना पा रहे हैं।

जानकारों का मानना है कि राजनाथ को नोटबंदी से पैदा आक्रोश और अपनी लोकप्रियता के गिरते ग्राफ के बारे में पता है, इसलिए वो खुद मुख्यमंत्री के रूप में अपना नाम बढ़ाए जाने के पक्ष में नहीं है। वो हार का ठीकरा अपने सिर नहीं लेना चाहते।  ये अलग बात है कि अगर किसी तरह से भाजपा की यूपी में सरकार बन जाती है तो वो ज़रूर गृहमंत्री की कुर्सी छो़ड़ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने को तैयार हो जाएंगे। 

 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
9 %
57 %
Total Hits : 77568