Friday, 24th November 2017

शहडोल उप चुनाव बना बीजेपी का सिरदर्द

Tue, Nov 15, 2016 7:27 PM

                                                                                                              

शहडोल में भाजपा का प्रचार कर रहे कार्यकर्ताओं की जनता के हाथों पिटाई होने के बाद पार्टी प्रत्याशी ज्ञानसिंह की मुश्किलें बढ़ गई हैं।
कार्यकर्ता अब प्रचार करने के बजाय बड़े नेताओं के इर्दगिर्द घूमकर अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। कुछ कार्यकर्ताओं ने तो बिना सिक्योरिटी के प्रचार पर निकलने से इन्कार भी कर दिया है, लेकिन अधिकतर जनसंपर्क के लिए गांवों में जाने की बात कहकर पार्टी कार्यालयों से प्रचार सामग्री लेकर निकलते तो हैं, लेकिन गांवों में जाने के बजाय कहीं सुरक्षित जगह पर बैठकर ताश खेलना या आराम करना पसंद करते हैं।


ज्ञान सिंह इस हालत से बहुत नाराज हैं। उन्होंने तो यहां तक कह दिया है कि बड़े नेता शहडोल लोकसभा सीट से दूर ही रहें।

दिक्कत ये है कि शिवराज ने रणनीति ही बड़े नेताओं की शहडोल में भीड़ जुटाकर जनता पर दबाव बनाने की बनाई है।
अब दूसरे इलाकों के बड़े नेता और मंत्री शहडोल में डेरा जमाए हैं, जिससे स्थानीय कार्यकर्ताओं को भी इन्हीं नेताओं के आसपास रहने का बहाना मिल जाता है।
नोटबंदी का मामला लगातार गंभीर होता जा रहा है। चुनाव की तारीख 19 नवंबर आते आते हालत और बिगड़ने की आशंका जताई जा रही है। इस बार कई और गांवों से भी भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रचार करने पर लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है।


मतदान जागरूकता दलों के जरिए भी लोगों को शांत रहने और,  भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ बदसलूकी न करने की सलाह दी जा रही है। 
एक नया संकट बूथ एजेंट बनाने के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं की कमी की है। नोटबंदी से हो रही परेशानी और भाजपा के खिलाफ बने माहौल के बीच भाजपा वर्कर पोलिंग एजेंट बनने का खतरा नहीं उठाना चाहते हैं।
पत्रकार महेंद्र नारायण सिंह यादव का कहना है कि ज्ञान सिंह को टिकट मिलने से नाराज भाजपा नेता भी असहयोग करके मामले को गंभीर बना रहे हैं। दूसरी तरफ अजीत जोगी ने गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के पक्ष में उतरकर मुकाबला भाजपा बनाम अजीत जोगी बना दिया है। 

 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
10 %
56 %
Total Hits : 77699