Saturday, 18th November 2017

गैंगरेप पीड़िताएँ चिल्लाती रहीं और प्रवचन सुनती रही खट्टर सरकार

Fri, Sep 2, 2016 1:08 AM

मेवात, हरियाणा : हरियाणा में दो लड़कियों के साथ गैंगरेप हो रहा था और खट्टर सरकार विधानसभा में जैनमुनि के प्रवचन सुनने के इंतजाम में लगी थी। वारदात के बाद भी मुख्यमंत्री और उनकी सरकार प्रवचन सुनती रही जिनमें महिला विरोधी बातें कही जा रही थीं। मुख्यमंत्री को न अपराध का पता था और न ही कोई फिक्र थी।
बाद में तमाम हो-हल्ला के बाद तावडू इलाके के गांव डींगरहेड़ी में दो लड़कियों के साथ सामूहिक बलात्कार और दंपति की हत्या में  चार लोगों को गिरफ्तार किया गया, लेकिन भाजपा, प्रशासन, पुलिस और स्थानीय भाजपा सांसद उन आरोपियों को बचाने की भरस कोशिश कर रहे हैं। 
तावडू में आज हुई सभी बिरादरियों की महापंचायत में तत्काल कार्रवाई की मांग की गई। स्थानीय यादवों ने पीड़ित मुसलमानों को पांच लाख, तीन लाख और कुछ दूसरी जाति के हिंदुओं ने आर्थिक मदद का एलान किया और आरोपियों को तुरंत और सख्त सज़ा देने की मांग की। 
भाजपा इस पूरे मामले को हिंदू-मुसलमान का बनाने की कोशिश कर रही थी लेकिन दोनों पक्षों के संवेदनशील और समझदार लोगों ने मिलकर अपराधियों का साथ न देने का फैसला एकजुट होकर लिया, लेकिन साथ ही जाहिर कर दिया कि दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करनी ही होगी। यह भी पता चला है कि गैंगरेप करने वाले वहशी गौ रक्षा समिति से जुड़े हैं।
पंचायत में यह बात सामने आई है कि आरोपी लड़के शराब पीकर वारदात वाले दिन की सुबह छेड़छाड़ कर चुके थे। रात में शराब पीकर दुबारा  उन्होंने हमला किया। बच्चियों के मामा-मामी को बुरी तरह से घायल करके बांध दिया। 
पंचायत से लौटे एक पत्रकार साथी ने बताया कि जिस महिला की हत्या की गई, वह मौके से भागने में कामयाब हो जाती परंतु उसके बच्चे को आरोपियों ने पकड़ रखा था और बच्चे को वापस करने की शर्त पर महिला को सामने आने पर मजबूर किया गया। बच्चे को उल्टा टांग कर महिला को वापस बुलाने पर मजबूर किया गया। वारदात को जिस तरह अंजाम दिया गया, उससे कहीं से नहीं लगता कि मामला लूटपाट का है। यह  मामला साफतौर पर उस गंदी मानसिकता का मामला है जिसे गौरक्षा या फिर धर्म रक्षा के नाम पर आम तौर पर दादरी से लेकर मुजफ्फरनगर तक देखा गया। 
महापंचायत में हिंदुओं और मुसलमानों ने अमन-चैन की अपील की। प्रशासन शुरूआत से मामले को लूटपाट में बदलना चाह रहा था परंतु भारी जनदबाव के आगे वह कामयाब नहीं हो सका। जनदबाव स्थानीय लोगों का ही रहा।
चिंता की बात है कि हरियाणा की भाजपा की राज्य सरकार और आरएसएस के स्वयंसेवकों ने माहौल को खराब करने और मामले को दबाने की पूरी कोशिश की है।
यह मामला बुलंदशहर रेप केस से कम नहीं बल्कि ज्यादा भयावह है। इतना ज़रूर है कि जनदबाव के आगे रेपिस्ट गिरफ्तार हो गए हैं। कुछ स्थानीय वकीलों की टीम इस पूरे केस की मॉनिटरिंग भी कर रही है। स्थानीय हिंदू मुसलमान सब इस वारदात के बाद गुस्से और ग़म से भरे हुए हैं।
पुलिस ने मेवात जिले के तावडू थाना क्षेत्र के गांव डींगरहेड़ी में मुस्लिम दंपति की हत्या और महिला और किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। रविवार को कड़ी सुरक्षा के बीच सभी चार आरोपयों को अदालत में पेश कर पुलिस ने 7 दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है। ​
24 अगस्त की रात डींगरहेड़ी में बदमाशों ने दंपति की हत्या कर 21 वर्षीय महिला और 15 वर्षीय किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। सभी आरोपी डींगरहेड़ी गांव के पड़ोस के मोहम्मदपुर अहीर की नंदू की ढाणी के रहने वाले हैं। मेवात जिला मुख्यालय नूंह में आयोजित पत्रकार वार्ता में आईजी ममता यादव ने बताया कि 27 वर्षीय आरोपी संदीप पुत्र रामनिवास, 24 वर्षीय अमरजीत पुत्र वीरेंद्र, 24 वर्षीय कर्मजीत पुत्र ब्रह्मजीत और 22 वर्षीय राहुल पुत्र सुनील को गिरफ्तार किया है। इन आरोपियों में राहुल बिहार का निवासी है। इन दिनों नंदू की ढाणी में रह रहा था।
आईजी ममता सिंह ने बताया कि आरोपियों संदेह के आधार पर बुलाया गया था, और इनकी गतिविधियां संदिग्ध लगने पर गिरफ्तार किया गया। दुष्कर्म की पीडि़त महिला और लड़की के बयान के आधार पर बनाए गए आरोपियों के स्केच से भी इनका चेहरा मिलता-जुलता है। पूछताछ में यह भी पता चला था कि आरोपी वारदात के पहले वाले दिन दिन भर पीडि़त के घर के आस पास ही मंडराते दिख रहे थे। उन्होंने केएमपी पर ही बैठक कर शराब भी पी थी। गिरफ्तार आरोपियों में अमरजीत पुत्र वीरेंद्र पहले भी शस्त्र अधिनियम के अंतर्गत गिरफ्तार हो चुका है। उस पर मारपीट करने का एफआईआर भी दर्ज है।

(एजेंसी, सूत्र)

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

31 %
9 %
59 %
Total Hits : 77350