Friday, 24th November 2017

केशव प्रसाद मौर्य ने की अपने दलित सांसद की मंच पर बेइज्जती

Thu, Sep 1, 2016 7:02 PM

भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने रॉबर्ट्सगंज (सुरक्षित) सीट के सांसद छोटेलाल खरवार की मंच पर ही बेइज्जती करवा दी। 31 अगस्त को सोनभद्र में भाजपा के कार्यक्रम में केशव प्रसाद मौर्य और संगठन मंत्री सुनील बंसल और कई नेताओं के सामने छोटेलाल खरवार को बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं दी गई। बेचारे खरवार हाथ बाँधे काफी देर तक ताबेदार की तरह खड़े रहे। भाजपा के जिलाध्यक्ष अशोक मिश्रा तक केशव प्रसाद मौर्य के बगल में तनकर बैठे रहे लेकिन किसी ने सांसद छोटेलाल खरवार से बैठने के लिए नहीं पूछा, जबकि छोटे-छोटे कार्यकर्ता भी कुर्सी पर कब्जा किए बैठे थे।

(तस्वीर में दिख रहा है कि केशव प्रसाद मौर्य और सोनभद्र जिले के भाजपा अध्यक्ष अशोक मिश्रा के पीछे सिकुड़े-सहमे से सांसद छोटे लाल खरवार खड़े हैं)

केशव प्रसाद मौर्य के पहली बार सोनभद्र आगमन पर कार्यकर्ताओं ने स्वागत तो ज़ोरदार किया लेकिन रॉबर्ट्सगंज सांसद छोटेलाल खरवार का अच्छा खासा अपमान हो गया। श्री खरवार के समर्थक भी बेहद उपेक्षित और नाराज दिख रहे हैं। भाजपा और आरएसएस तो वैसे भी ब्राह्मण और बनिया की पार्टी कही जाती है, लेकिन अब वोटों की खातिर वो पिछड़ों और दलितों को लुभाने के लिए कोशिश कर रही है। सोनभद्र और रॉबर्ट्सगंज में अनुसूचित जाति के मतदाताओं की बड़ी संख्या है जो 2014 के लोकसभा चुनावों में तो मोदी लहर में बह गए थे, लेकिन अब उनका रुझान भाजपा से अलग हो रहा है।

पढ़िए- क्या है प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर छोटेलाल खरवार की बेइज्जती के मामले में

यही कारण है कि भाजपा भी इलाके में दलितों के वोट लुभाने  के लिए ज्यादा कोशिश नहीं कर रही है। इसी कारण से केशव प्रसाद मौर्य ने भी रॉबर्ट्सगंज के सांसद छोटेलाल खरवार को महत्व देना ज़रूरी नहीं समझा। छोटेलाल खरवार की बेइज्जती के पीछे पार्टी की गुटबाजी भी कारण बताई जा रही है। खरवार के विरोधी लोग इलाके की राजनीति में उन्हें  किनारे कर देना चाहते हैं।

पार्टी के अंदर छोटेलाल खरवार की बेइज्जती को लेकर तीखी प्रतिक्रिया हो रही है। भाजपा कार्यकर्ता सुबेंद्र सिंह चंदेल ने इसे अनुसूचित जाति के मतदाताओँ का अपमान बताया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा के बड़े नेता अहंकार में डूबे हैं और अब उन्हें दलित कार्यकर्ताओं की ही नहीं, दलित सांसद तक के सम्मान की परवाह नहीं है।

अब अखबारों में भी उछल गया है मामला

Comments 42

Comment Now


Previous Comments

महोदय आपको पार्टी के बरे में तो पता ही होगा, की यह एक आदर्शो वाली पार्टी है । जैसा की छाया चित्र में दिख रहा है कि मंच पर उपस्थित कुर्सी पर बैठे सभी लोग माननीय सांसाद जी से उम्र में श्रेष्ठ हैं इसलिए संसद जी ने उम्र का लिहाज कर के कुर्सी पर न बैठने का निश्चय किया। अतः आपसे निवेदन है कि अपनी स्वतंत्रता का फायदा न उठाते हुए इस तरह के जनप्रभावी, तथा बेकार के खबरों को प्रसारित न करे। कृपया इस सन्देश का जवाब अवश्य दें।

surya tiwari

अरे मुर्खो अब तो सुधर जावो ,कितना सहोगे

Yeh to hina hi tha sc minister bhi ban jaye to use general gali ka neta bhi apne ko bada manta h. Yadi MP me kuch samman bacha h to resignation de dena chahiye. Nahi to ham aishe MP ke wajah se baijat hote rahege

केशव प्रसाद मौर्या अंसारी bp

विजय शंकर शर्मा नंदवंशी

Are ab to samjho jab ye log ek Mp ko ese behaviour kr rahe h to dalit ka hal kya hota hoga....up m and india m ....kholo ankhen penchano apne hak ko...

rohit kumar

भाजपा के सभी नेताओं और कार्यकर्त्ताओं में, वे चाहे छोटे हों या बड़े, जातिवाद, सामंतवाद कूट-कूटकर भरा है. उपरोक्त वाकिया कोई अकेला वाकिया नहीं है. अक्सर आपको ऐसे उदाहरण देखने को मिलते हैं. जातिवादी मानसिकता के कारण आजाद भारत में भी वे अनुसूचित सांसद या विधायक को सम्यक सम्मान नहीं दे पाते. वे जानते हैं के वही व्यकति है जिसके बाप हमारे खेत में मजदूरी करते थे. आज भले ही छोटेलाल खरवार सांसद हैं पर हैं तो पूर्व अछूत ही. यहाँ वही व्यक्ति सम्मान और इज्जत पाता है जो उच्च जाति से है, पैसे से धनी है. दूसरी तरफ छोटे लाल खरवार जैसे लोगों के दिमाग में गुलामी का भूत घुसा हुआ है. छोटेलाल खरवार चाहते तो स्टेज से उतर कर अपने घर के लिये प्रस्थान कर सकते थे पर उनकी गुलाम मानसिकता ने उन्हें सांसद-योग्य सम्मान से वंचित रखा. अनुसूचित सांसद या विधायक को क्या खो जाने का घर उनकी मानसिकता को परिवर्तित नहीं कर पाता? एक विचारणीय बिन्दु है.

लाला बौद्ध

जो लोग अपना घर जलाकर दुसरों के घर को अपना मानकर घुस जाते है उनकी यही स्थिति होती है.

श्रीकांत गोस्वामी

महोदय आप जो उमर की बात कर रहे है क्या ससद मे भी उमर का मायने है

kya bat hai ? agar thodha bhi Sharm hai to sudhar jao mere BHAI log abhi kuchh nahi bigda hai.

Rahul Kumar

जहाँ तक उम्र का सवाल है तो मा आडवाणीजी को PM की कुर्सी मिलनी चाहिए थी ये उसूल नही है। कुर्सियो पर बैठे लोग उम्र मे श्रेष्ठ नही है जाती से श्रेष्ठ है, जो बीजेपी की पहिचान है और अब ये पहिचान ही मिट जायेगी यही सब कांग्रेस ने किया था अब बीजेपी कर रही है। पाप का घड़ा जल्द भरने वाला है, करते रहो इसी तरह के कृत्य।

suresh chandra

: ये जो आप दिखा रहे है ना प्रेस वार्ता खत्म होने के समय का है वो जल्दी से खड़े हो गये । आप लोगों को कुछ नही मिला तो तस्वीर प्रसारित कर रहें है जब प्रेस वार्ता खत्म हुआ तब की तस्वीर है ।

प्रेम नारायण द्विवेदी

dalit ke nam pr kalek h morya

NETA JEE AAP KO PARTY HI CHOR DENI CHAHIYE YE BJP KEWAL DIKHAWA KARTI HAI KI HUM SC ST OBC KE HITKARI HAI LEKIN YE TO KEWAL OHT KI RAJNITY KARTI HAI .

Er.P.K Saroj

Jo log apna swabhiman girawi rakh chuke hain unki kya izzat hogi. Jinake liye samaj ki koi izzat nahi unka yahi hashra hota hai.

D. K. Dinkar

Jo log apna swabhiman girawi rakh chuke hain unki kya izzat hogi. Jinake liye samaj ki koi izzat nahi unka yahi hashra hota hai.

D. K. Dinkar

Jo log apna swabhiman girawi rakh chuke hain unki kya izzat hogi. Jinake liye samaj ki koi izzat nahi unka yahi hashra hota hai.

D. K. Dinkar

भाजपा के नेताओ का दलितो के प्रति हमेशा से रबया अच्छा नही रहा है इनका दलितो के प्रति ये सब दिखावा व ढोंग है बाहर कुछ और अन्दर कुछ और

Rajkamal so suresh chandra

Yadi hum kisi ki ijjat nahi ker saktey tooo beijjati krnei ka bhi right nahi it's says in politics

vijay kant verma

All S/c MP must left BJP.

K.K.Rzhi Adv

बुड्बकों की सरकार है इन्हे तो वैसे भी दलित इंशान नज़र नहीं आता वो तो कुत्ता और सुवर के बराबर ही मानते है ऐसे नेता और उनकी पार्टी दोनों को लातमार देनी चाहिए।

चित्रकूटी

अगर केशव के आने के बाद भाजपा कि बुरी हालत हुईं तो इसका भी वही हाल होगा जो दलित एम पी और एम एल ए का इस समय भाजपा में हो रहा हैं सब के सब बधिया कर दिये हये हैं अब चुनाव होने के बाद पिछड़ी जाति के लोगों का नम्बर हैं चिन्ता न करें ये भाजपा मनूवादियो व बनिओ कि पार्टी हैं इन लोगों कि मानसिकता दलित व पिछड़ी जातियों कि विरोधी हैं ये भाजपा के लोग हरामी हैं इनको सबक इनकी पार्टी के sc st obc के लोग पार्टी छोड़ कर सिखा सकते हैं ।

अजय कुमार पाल

जो एस सी/एस टी/ ओ बीी सीी के कार्य कर्ता भाजपा में हैं उन्हें मालूम ही नहीं है कि इज्ज़त और स्वाभिमान क्या है अपने स्वार्थों के खातिर कुछ भी सहने को तैयार रहते हैं। इन्हें सारा विश्व भा ज पा में ही दिखाई देता है।

मलखानसिंह

up election और अन्य राज्यों के चुनाव का परिणाम अवश्य देखे उत्तर मिल जायेंगा

sudhakar Atkade

up election और अन्य राज्यों के चुनाव का परिणाम अवश्य देखे उत्तर मिल जायेंगा

sudhakar Atkade

Jis party ka adhyakx hi ek bejitt admi ho us parti ke neta to ESE honge hi.bhajapa balon ab bhi sudhar jao. Insan ko insan samzne lag jao. Brna Jo modi haba chali thi bo kahi uttar Pradesh m ake fush na ho jaye. Abhiman kam karo.

krishan kant bansal

भाजपा को लगता है कि उसने इस महादलित को सांसद बनाकर मंच पर खड़ा होने लायक बना दिया इतना क्या कम है,जो अपने बगल मे कुर्सी पर बैठाते।

परमानंद मौर्य एड 0

कथिक सेकयलर मिडिया को सनातन की एकता नही पच रही इसलिये अफबहो से समाज को तोड़ने की कोशिस हो रही है ।

महेश दशधारी

Abto sudhar jao mere bhaiyo,in manuvadiyo se pind chhudao,apni pahchan banao,ek ho jao

r.s.rana

श्रीमान् surya tiwari अगर उम्र से ही बरिष्ठता होती है तो प्रोटोकाल क्यों बना है सांसद तुम्हारे जिला अध्य्क्ष से बहुत ऊपर होतें है

देवेंद्र गौतम

Year 1947 me Bharat ko rajnaitik aajadi to mil gayi lekin pura mulk aajtak jaatigat samajik dasta we mukt nahi ho paya hai. BJP jaise national level ki partiya RSS ke isare par nachati hai aur RSS kabhi bhi mulniwasiyon ko apane barabari par nahi dekhana chahata. Is sansad ki beijjati isaka jeeta- jagata udaharan hai. Jago mulniwasiyon jago...

Rakesh Kr. Rawat

काम बोलता है। जो काम करता है उसे हर जगह सम्मान मिलती है। जिस तरह सांसद को कुर्सी नहीं मिली उसी तरह 2017 में भाजपा को कुर्सी नहीं मिलेगी। jay samajvaad

Suraj mishra

DOOSRO KI RAJAI MAI SONAI PER TO PADDU HI KEHLANA PARTA HAI

ASHISH

It's the respect & dignity which matters to the Oppressed & Depressed classes. It was never been extended to their ancestors for thousands of years. The commands are incomplete if the respect & dignity are missing.

MB Rathore

Logone jatibhed chodkar manav jati ko hi apnana chahiye esime Des ki bhalai hai

Umesh

B j P MANUWADI PARTY HAI USAME DALIT KA ESTEMAL PURN BAHUMAT KI SARKAR BANANE KE LIYE KARTI HAI TAQI MANUWAD KO samaz me esthapit kr sake jise sambaidhanik shakti khatam kr rahi hai M P SAHAB KE SATH JO BWAHAR HUA HAI USKA HISSA HAI LEKIN EN JAISE MULNIWASI SAMJHENGE NAHI. AISE KARYA B J P MULNIWASIO SE KRA RAHI HAI .

umesh Kumar

ऐसे ही हाथ पर हाथ रख कर खडे रहाे मेरे दलित भाई उनके उठने के बाद बैढने काे मिल ही जायेगा अरे अब ताे सुधराे आप काे ताे पाटी छाेड देनी चाहिएे

जयश़कर जय भीम लाल सलाम

Yah BJP ki soch hai

Raj Bahadur Singh

Mr. Kharwar should have left the dias to maintain the dignity and respect

Sunder lal

Ye to abhi suruat hai bjp ki government banane do tab dekhna obc/sc k sath kaisa behave hota hao

vipin

मनुवादी सोच के अनुसार अन्य पिछड़ा वर्ग भी शुद्र हैं दलितों की तरह भेदभाव यह सिद्ध करता हैं ।लेकिन अन्य पिछड़ा वर्ग बड़े होने की सोच के बदले अपमान है।

Lal Bahadur

gmai.com

Adalat deswali

kisane samman nahi kiya.

kamal nath

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
10 %
56 %
Total Hits : 77699