Friday, 22nd September 2017

केंद्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड का नाम दत्तोपंत ठेंगड़ी के नाम पर करने का विरोध

Tue, Aug 23, 2016 2:52 PM

नई दिल्ली, 23 अगस्त, 2016 : केंद्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड का नाम दत्तोपंत ठेंगड़ी राष्ट्रीय श्रमिक शिक्षा एवं विकास बोर्ड रखा गया है। सरकारी बोर्डों के नाम आरएसएस के प्रचारकों के नाम पर रखने की भाजपा सरकार की सुविचारित योजना का यह मात्र एक उदाहरण है। सामान्य तौर पर सरकारी भवनों के नाम तो नेताओं के नाम पर रखे जाते रहे हैं, लेकिन अब सरकारी बोर्डों और निगमों के नामों पर भी आरएसएस के प्रचारकों के नाम चस्पा किए जा रहे हैं।

जहाँ तक श्रमिक शिक्षा बोर्ड का नाम बदलने का मामला है तो इसमें मौजूदा नियम-कानूनों को भी किनारे रखा गया है। बोर्ड के कर्मचारी, अधिकारी और पेंशनर इसके सख्त खिलाफ हैं। नाम बदलने के लिए बोर्ड की लगातार दो सामान्य सभाओं में प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित होना जरूरी है, लेकिन संघ को खुश करने के लिए बोर्ड के चेयरमैन के लक्ष्मा रेड्डी ने सबके विरोध को दरकिनार करके फर्जी तरीके से प्रस्ताव पारित करने की शपथ पत्र दिल्ली में सोसायटी रजिस्ट्रार को दिया है।

सामान्य सभा में अनेक लोगों ने केंद्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड का नाम बदलने का विरोध किया लेकिन चेयरमैन लक्ष्मा रेड्डी ने उनके विरोध को दर्ज नहीं किया और फर्जी तरीके से मिनट्स में उनकी सहमति दर्ज कर ली। केरल के अध्यक्ष आर चंद्रशेखरन ने इस बारे में चेयरमैन लक्ष्मा रेड्डी पर स्पष्ट आरोप लगाया है।

केंद्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड का मुख्यालय नागपुर में है, लेकिन चेयरमैन अपनी महत्वाकांक्षा के लिए इसे नई दिल्ली शिफ्ट करवा रहे हैं। इसके लिए बोर्ड के करीब 100 कर्मचारियों और उनके परिजनों को प्रताड़ित किया जा रहा है क्योंकि ये लोग मुख्यालय शिफ्ट करने का विरोध कर रहे हैं। अगर मुख्यालय नागपुर से दिल्ली शिफ्ट हुआ तो लाखों मजदूर आजीविका से वंचित हो जाएंगे।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के हाथों नई दिल्ली में केंद्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड के नए मुख्यालय भवन का उद्घाटन करवाया गया है। मुख्यालय शिफ्ट करने का मुद्दा महाराष्ट्र, विशेषकर विदर्भवासियों के लिए प्रतिष्ठा का विषय बना हुआ है और भविष्य में इसके विरोध में तेज़ तथा उग्र आंदोलन होने की स्थिति तैयार हो रही है।

बोर्ड के चेयरमैन के लक्ष्मा रेड्डी ने स्वार्थपूर्ति के लिए एक निचले स्तर के अधिकारी जे पी फोगट को प्रभारी निदेशक बना दिया है और उसके जरिए संस्था में अनेक तरह के अनैतिक कार्य करवा रहे हैं।

बोर्ड के गलत कार्यों का विरोध करने के लिए कर्मचारी संघ, अधिकारी संघ, रिटायर्ड अधिकारी संघ, पेंशनर संघ और इंटक आदि संगठनों के अनेक नेता- एन एस पिल्लै, अखिल भारतीय महासचिव, की अगुवाई में करीब 500 लोग नई दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं, और जल्द ही जंतर मंतर पर प्रदर्शन करने वाले हैं।

बोर्ड नई दिल्ली के रोहिणी इलाके में 23 अगस्त को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के हाथों नए भवन का लोकार्पण करवाया है। चेयरमैन लक्ष्मा रेड्डी ने श्रीमती महाजन को भी इन सारी अनियमितताओं की जानकारी न देकर उन्हें गुमराह किया है।

 

 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75828