Monday, 25th September 2017

तो ये हैं केजरीवाल की तरफ से पंजाब की नई मुख्यमंत्री !

Tue, Aug 23, 2016 2:45 AM

नई दिल्ली, 23 अगस्त, 2016 : पंजाब में पिछले लोकसभा चुनावों में 4 लोकसभा सीटें जीत चुकी आम आदमी पार्टी विधानसभा चुनावों में जीत की आस लगाए बैठी है, लेकिन मुख्यमंत्री कौन होगा, ये बताने को तैयार नहीं। हालाँकि, अब खुलासा होता जा रहा है और पता लगा है कि श्री केजरीवाल अपनी पत्नी सुनीता केजरीवाल को ही मुख्यमंत्री बनाने की गुपचुप तैयारी में लगे हैं।

दिल्ली के चुनावों में केजरीवाल खुद मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे और उन्होंने रणनीति भी ऐसी बनाई थी कि भाजपा को भी अपना मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित करना पड़ा था। अब पंजाब में चुनाव हैं तो केजरीवाल मुख्यमंत्री पद के दावेदार का ऐलान करने से बच रहे हैं। नवजोत सिद्धू से भी इस बारे में बात हुई लेकिन जब सिद्धू इस्तीफा देकर आ गए तो केजरीवाल टालमटोल करने लगे। 

पंजाब में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता और आरटीआई विंग के प्रदेश महासचिव  हरमिलाप सिंह ग्रेवाल ने केजरीवाल और उनके कुछ साथियों की कार्यशैली से परेशान होकर पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। श्री ग्रेवाल का कहना है कि केजरीवाल दरअसल पंजाब जैसे महत्वपूर्ण राज्य में मुख्यमंत्री किसी और को बनाकर अपने लिए चुनौती खड़ी करना नहीं चाहते, और अपनी पत्नी सुनीता केजरीवाल को ही मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं। ध्यान रहे कि सुनीता केजरीवाल के ही साथ भारतीय राजस्व सेवा में नौकरी कर रही थीं, और अभी हाल ही में उन्होंने नौकरी से त्यागपत्र दिया है।

सूत्रों का कहना है कि स्थानीय नेताओं की तरफ से इसका विरोध न हो, इसके लिए संजय सिंह, दुर्गेश पाठक और कुछ अन्य दिल्ली से आए नेताओं ने स्थानीय नेताओं को किनारे करना शुरू कर दिया है। पार्टी सभी  117 सीटों पर टिकट तय कर चुकी है और टिकट पाने वालों को इसकी सूचना भी दे दी गई है, लेकिन दिल्ली से आए नेता अब नाम के लिए वोटिंग कराने का दिखावा कर रहे हैं। टिकट वितरण में ऐसे लोगों को तरजीह दी गई है जो केजरीवाल के किसी भी निर्णय का विरोध न करें। इस बार भ्रष्टाचार में शामिल नेताओं को भी टिकट देने से गुरेज नहीं किया गया है।

जानकारों का मानना है कि श्री केजरीवाल इस बार पंजाब में किसी को मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं घोषित करना चाहते और चाहते हैं कि कई दावेदार एक साथ खड़े हो जाएं ताकि विवाद की स्थिति में उन्हें फैसला करने का अधिकार मिल जाए और फिर विवाद से बचाने के नाम पर वे अपने खास मित्रों के जरिए सुनीता केजरीवाल का नाम प्रस्तावित कराएंगे। इसके बाद पार्टी के पुराने रुख का हवाला देकर वे ना-नुकर करेंगे लेकिन जब दबाव ज्यादा पड़ेगा तो मजबूरी और सबकी राय के नाम पर वे सहमत हो जाएंगे और श्रीमती सुनीता केजरीवाल मुख्यमंत्री बन जाएंगी।

आम आदमी पार्टी छोड़ने वाले  श्री ग्रेवाल भी अच्छी खासी आय की नौकरी छोड़कर भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के समय आम आदमी पार्टी में शामिल हुए थे, लेकिन अब वो कह रहे हैं कि पुराने वॉलेंटियरों को किनारे किया जा रहा है और मनपसंद लोगों को टिकट बाँटी जा रही है।

पंजाब से आम आदमी पार्टी के चार सांसद जीते थे जिनमें से धर्मवीर गांधी और हरिंदर सिंह खालसा को पार्टी निकाल चुकी है। बाकी दो में प्रो संधू सिंह और कॉमेडियन भगवंत मान हैं जिनमें से संसद का वीडियो बनाकर इंटरनेट पर जारी करने वाले भगवंत मान संसद से निलंबित चल रहे हैं और उनकी सदस्यता खतरे में हैं। भगवंत मान के लोकसभा में शराब पीकर आने की भी शिकायत हो चुकी है।

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75859