Wednesday, 22nd November 2017

जुड़वाँ भाई-बहनों का रक्षाबंधन

Thu, Aug 18, 2016 6:18 PM

जुड़वाँ बच्चों की संख्या पहले की तुलना में करीब 30 प्रतिशत बढ़ चुकी है। पहले जहाँ कहीं इक्का-दुक्का मामले ही जुड़वाँ बच्चों के होते थे, वहीं अब अक्सर जुड़वाँ बच्चे दिखने लगे हैं। इसके बावजूद, जुड़वाँ बच्चे विशेष आकर्षण और कौतूहल के विषय रहते हैं। लोग उनके आचार-व्यवहार और आदतों को गौर से देखते हैं। अगर उनमें रंग-रूप की समानता है तब तो वे विशेष आकर्षण के केंद्र होते ही हैं, लेकिन इसके अलावा किसी तरह की समानता है, या नहीं भी है तो भी वो सब लोगों के लिए खास होते हैं।

जुड़वाँ भाई-बहन भी अपने आप में खास होते हैं और लोगों के बीच विशेष आकर्षण के केंद्र होते हैं। दरअसल जुड़वाँ भाई या जुड़वाँ बहनों के मामले तो कई मिल जाते हैं, लेकिन जुड़वाँ भाई-बहन के मामले बहुत कम ही देखने को मिलते हैंं। 

भारतीय संदर्भ में तो जुड़वाँ भाई-बहनों में विशेष स्नेह होता है। रक्षाबंधन भी जाहिर तौर पर इनके लिए खास होता है। ऐसे भाई-बहनों के स्वभाव में भिन्नता हो सकती है, और बचपन में पारस्परिक प्रतिद्वंद्विता की भावना भी होती है, लेकिन दोनों के बीच गहरा प्यार भी होता है। अक्सर थोड़ा बड़े होने पर ये प्यार प्रकट होता है और उनमें होने वाले छोटे-छोटे लड़ाई-झगड़े बंद हो जाते हैं, या प्यार भरी नोंक-झोंक में बदल जाते हैं।

न्यूज़लाइव 24  एक ऐसे ही जुड़वाँ भाई-बहनों के रक्षाबंधन मनाने की तस्वीर अपने पाठकों के लिए पेश कर रहा है। चित्र में दिख रहे बच्चे हैं आरव सहाय और आराध्या सहाय। गौरव सहाय के ये जुड़वाँ बच्चे गाजियाबाद जिले के वसुंधरा में नर्सरी क्लास में पढ़ते हैं।

 

जुड़वाँ बच्चों के बारे में तरह-तरह की धारणाएँ प्रचलित हैं। आइए जानते हैं कि इनमें कितनी सच्चाई है 

1) क्‍या एक लड़का और एक लड़की आईडेंडटीकल ट्विंस हो सकते हैं? - नहीं, एक लड़का और एक लड़की कभी भी आईडेंडटीकल ट्विंस नहीं हो सकते है। ट्विंस जिस तरीके से बनते हैं उस टर्म को फ्रेटरनल कहते हैं। आईडेंडटिकल ट्विंस एक ही जेगोट से बनते हैं। वहीं दूसरी तरफ फ्रेटरनल ट्विंस, दो अलग-अलग अंडों से बनते हैं और दो अलग-अलग स्‍पर्म से बनते हैं। इसलिए, फ्रैटरनल ट्विंस या तो दो लड़के हो सकते है या दो लड़कियां हो सकती हैं।

2) क्‍या जुड़वां बच्चों का  जन्‍म अलग-अलग होता है? - हां, जुड़वां बच्‍चों के जन्‍म में थोड़ा सा फर्क हो सकता है। कुछ बच्‍चों में कुछ मिनट का, कुछ बच्‍चों में थोड़े घंटों का भी अंतर संभव है। 

3) क्‍या जुड़वाओं में कोई आनुवांशिक और पारिवारिक संबंध होता है? - जुड़वां बच्‍चों में जेनेटिक कनेक्‍शन हो सकता है। अगर उनकी मां को हाईपर - ओव्‍यूलेशन जीन आनुवांशिकता में मिली हो। जुड़वा बच्‍चे रेन्‍डम होते है और पारिवारिक लक्षण आदि का कोई मतलब या प्रभाव नहीं होता है। 

4) क्‍या जुड़वां बच्‍चों की सीक्रेट लैंग्‍वेज होती है? - यह एक मिथक है कि जुड़वा बच्‍चों की कोई गुप्‍त भाषा होती है। इस टर्म को क्रिप्‍टोफेसिया कहा जाता है जिसमें दो लोग आपस में गुप्‍त तरीके से बात करते है लेकिन जुड़वां बच्‍चों में ऐसा नहीं होता है, वो छोटे में एक तरह से रोते और चहकते हैं तो हमें लगता है कि वो किसी सीक्रेट लैंग्‍वेज में बात कर रहे है।

5) क्‍या जुड़वां के एक जैसे फिंगरटिप्‍स होते है? - कई लोग मानते है कि जुड़वां बच्‍चों के फिंगरप्रिंट भी एक जैसे होते हैं लेकिन यह सच नहीं है। हर व्‍यक्ति की संरचना में फर्क होता है। जुड़वां बच्‍चे मटर की फली में स्थित दानों के समान होते हैं जो दिखने में एक से लगते हैं लेकिन उनकी भीतरी संरचना अलग होती है।
 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर गर्भाधान के समय निम्नलिखित ग्रह स्थितियाँ हो तो जुड़वाँ बच्चों की संभावना बनती है: 
1. चंद्रमा और शुक्र सम राशि में स्थित हों
2. बुध, मंगल और गुरु ‍विषम राशि में हों
3. लग्न और चंद्रमा समराशि में स्थित हों और पुरुष ग्रह द्वारा देखे जाते हों
4. बुध, मंगल, गुरु और लग्न बलवान हों और समराशि में स्थित हों 
5. मिथुन या धनुराशि में गुरु-सूर्य हो और बुध से दृष्‍ट हो तो दो पुत्र होते हैं। 
6. शुक्र, चंद्र, मंगल, कन्या या मीन राशि में बुध से दृष्ट हो तो दो पुत्रियाँ होती हैं। 

- न्यूज़लाइव 24 फीचर डेस्क

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
9 %
57 %
Total Hits : 77568