Wednesday, 20th September 2017

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में रोहित वेमुला कांड दोहराना चाहते हैं कुलपति : शालू यादव

Wed, Aug 10, 2016 11:16 PM

इलाहाबाद, 10 अगस्त, 2016 : इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष शालू यादव ने कहा है कि यूनिवर्सिटी के कुलपति आर एल हंगलू यहाँ भी रोहित वेमुला कांड दोहराना चाहते हैं।

गुरुवार को कुलपति और विश्वविद्यालय प्रशासन की शह पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने आइसा के सदस्यों पर हमला किया जिसमें कई छात्र-छात्राओं को चोट आई है। दिन में लगभग तीन बजे इ.वि.वि. कैम्पस में आइसा के सदस्यों पर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उस समय हमला किया जब  इ.वि.वि. प्रशासन द्वारा कुछ छात्रों को निलंबित करने के विरोध में आयोजित धरना चल रहा था। इसी समय ABVP के लोगों ने इन छात्र-छात्राओंं के साथ गाली-गलौज की और मारपीट की। इससे पहले आइसा के राष्ट्रीय सचिव सुनील मौर्य भी हमला किया गया था।  इस घटना क्रम में ABVP के दो लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। जिसमें 147, 323, 504, 506 एवं 354 धाराएं लगाई गई हैं। 

हमले में इलाहाबाद छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष शालू यादव के साथ भी मारपीट की गई। पूरे मामले पर न्यूज़लाइव 24 ने शालू यादव से बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के अंश:

न्यूज़लाइव 24:.क्या घटनाक्रम था इलाहाबाद का ?

शालू यादव : विश्वविद्यालय में एबीवीपी के कुछ छात्रो का निष्कासन निलंबन चल रहा था जिसके विरोध में एक क्रमिक अनशन चल रहा था। चूँकि निलम्बन निष्कासन एक अलोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत था तो मैं अपने साथियो जिनमे कुछ छात्राएं शिवानी जायसवाल,मानविका शिवहरे और अन्य साथियो के साथ समर्थन में पहुची। वहाँ पर मौजूद एक अराजक तत्व लगातार कमेंट कर रहा था जिसका मैने विरोध किया। उसपर वो छात्र (नीरज प्रताप सिंह) जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने लगा गाली दी,शारीरिक हिंसा का प्रयत्न किया और रेप की धमकी दी। बाकी पुरुष साथियो से मारपीट की। मेरे पुरुष साथियो को चोट आई है बाकी मेरे कपड़े फट गए है।
 
न्यूज़लाइव 24: क्या विश्वविद्यालय प्रशासन भी उनका साथदेता है..कुलपति का क्या रवैया रहता है?
 
शालू यादव : विश्वविद्यालय प्रशासन ऐसे लम्पटो की शरणस्थली बन चूका है। रोहिथ वेमुला के हत्यारे कुलपति को बुलाने पर भी कुलपति हांगलू ने मुझपर देशद्रोह लगाने के लिए अपने एक चमचे छात्रनेता को थाने पर भेजा था। इससे पहले पीजीएटी परीक्षा की धांधली का विरोध करने पर परीक्षा निदेशक बीएन सिंह ने अपने पोषित छात्रनेताओं से हमले करवाये। ये लगातार हो रहा है कि दलित पिछड़े और प्रगतिशील छात्र विश्वविद्यालय प्रशासन के आख की किरकिरी बने हुए है। 

न्यूज़लाइव 24: कुलपति आप लोगों से कुछ ज्यादा ही नाराज दिखते हैं। ऐसा क्यों...आप लोग शिक्षकों का सम्मान नहीं करते हैं, ऐसा कहा जाता है?

शालू यादव : कुलपति नाराज इसलिए रहते है क्योंकि हम दलित पिछड़े छात्रो के दमन के खिलाफ बोलते है। हम कैंपस में एक विशेष जातिवादी छात्र संगठन के खिलाफ खड़े होते है। हम परीक्षा की धांधली के विरोध में बोलते है। हम दलित और महिला छात्रो की रैगिंग के विरोध में प्रशासन को घेर लेते है। वायवा में मुस्लिम,दलित,ओबीसी छात्रो को कम नंबर मिलने पर विरोध करते है। एक घटनाक्रम से अवगत कराना चाहूंगी , इलाहबाद में एक दलित छात्रो का हॉस्टल है जो दलित और ओबीसी छात्रो को प्रशासनिक परीक्षाओ की तैयारी के लिए मिलता है यूनिवर्सिटी उसे छिनना चाह रही थी। दलित छात्रो को जबरन निकाल रही थी। इसका जब उन्होंने विरोध किया तो सवर्ण छात्र प्रशासन की मौजूदगी में उन छात्रो को गाली देने लगे और मारपीट पर आमादा हो गए। लगभग हर मामले में इन सब सवर्ण शिक्षको का यही हाल रहता है।
 
न्यूज़लाइव 24: क्या कुलपति एयू में हैदराबाद यूनिवर्सिटी के रोहित वेमुला कांड को दोहराना चाहते हैं?
 
शालू यादव: जी, जाहिर तौर पर ये बात स्पष्ट है कि कुलपति के मन में रोहिथ के लिये कोई संवेदनाये नही है अगर होती तो वो अप्पाराव को आमंत्रित ना करता। बाकि कुलपति का छात्रविरोधी रवैया कई बार सामने आ चूका है। यूनिवर्सिटी में आज भी एससी एसटी सेल का गठन नही हुआ है। कुलपति की मंशा स्पष्ट है कि उनका दलित ओबीसी छात्रो से कोई सरोकार नही है। छात्र लगातार निलंबित निष्कासित हो रहे है। फर्जी केस फ़ाइल करवाये जा रहे है। कुलपति दूसरा रोहिथ वेमुला कांड करवाना चाहते है इसमें कम ही संदेह है।
 
न्यूज़लाइव 24: ताजा विवाद की जड़ में क्या अप्पा राव को बुलाना ही है?

शालू यादव : जी जहाँ से मैं देख पा रही हूँ तो यही बात खुलकर सामने ही आ रही है कि अप्पाराव को बुलाना ही इन सब हमलो का मूल कारण है। चूँकि अप्पाराव के विरोध के बाद तुरन्त वीसी और परीक्षा निदेशक का चमचा देशद्रोह की धारा लगवाने पहुच जाता है और दूसरे ही दिन ये घटनाक्रम हो जाता है। 

एक अन्य बात जो मैं बताना चाहती हूँ कि अभी कुछ रोज पहले अर्थशास्त्र विभाग की सहायक प्रोफेसर दीपशिखा सोनकर के साथ उनके ही विभाग के सवर्ण प्रोफेसरों ने बदसलूकी की।उन्हें अपने चैम्बर में बुलाकर लगातार घूरा और जातिसूचक टिपण्णियां की। यही प्रोफेसर कुछ समय पहले भी ऐसा कर चुके है।मैं आप सभी से अपील करना चाहती हूँ कि जो लगातार दलित पिछड़ी छात्राओ और प्रगतिशील छात्रो के ऊपर हमले हो रहे है उनका मुहतोड़ जवाब एकताबद्ध होकर देना होगा। 

न्यूज़लाइव 24: आज की घटना पर एफआईआर करवाई है क्या..पुलिस ने क्या कार्रवाई की...क्या कहना है पुलिस का

शालू यादव : जी, नामजद एफआईआर हुई है। पुलिस ने कार्यवाही के लिए आश्वासन दिया है। लेकिन हम सभी बड़े संख्या बल के साथ विश्वविद्यालय से उस छात्र के निष्कासन की मांग करेंगे।

 

  •  
     
  •  

 

 

Comments 6

Comment Now


Previous Comments

San bevajah aur jhuthi baat hai

HIMANSHU

सभी सम्मानित छात्र एवं छात्राओं को जय मूलनिवासी। बच्चों इस समय पूरे देश में दो विचारधाराओ की लड़ाई चल रही है। पहली विचारधारा है , फुले - अम्बेडकरी विचारधारा जो 85% लोगों के लिए बहुजन हिताय , बहुजन सुखाय द्वारा इस देश में समता , स्वतंत्रता , बंधुता एवं न्याय पर आधारित समाज एवं राष्ट्र का निर्माण करना चाहती है और दूसरी विचारधारा है , ब्राह्मणवादी विचारधारा जो अल्पजन हिताय , अल्पजन सुखाय द्वारा केवल 15% लोगों के हित की बात करता है। आप लोगों के साथ जो भी भेदभाव हो रहा है , ये सब ब्राह्मणवादी विचारधारा द्वारा स्थापित ब्राह्मणवादी व्यवस्था के कारण हो रहा है , इसलिए मूलनिवासी समाज ( ओबीसी , एससी , एसटी एवं धर्मपरिवर्तित अल्पसंख्यक ) की सभी समस्याओं की जड़ में है , ब्राह्मणवादी व्यवस्था । अभी तक पूरे देश में मूलनिवासी समाज के छात्र एवं छात्राओं का राष्ट्रीय स्तर पर कोई संगठन नहीं था , लेकिन मूलनिवासी समाज के बौद्धिक संगठन बामसेफ नें भारतीय विद्यार्थी मोर्चा ( बीवीएम ) नामक राष्ट्रीय स्तर का छात्र संगठन तैयार कर रक्खा है। भारतीय विद्यार्थी मोर्चा में केवल 85% मूलनिवासी समाज के ही छात्र शामिल हैं और ब्राह्मणवादी व्यवस्था को जड़ से उखाड़ फेंकनें का अभियान छेड़ रक्खा है। अतः आप लोगों से निवेदन है कि अगर ब्राह्मणवादी व्यवस्था को जड़ से उखाड़ना चाहते हैं तो आप सभी लोग भारतीय विद्यार्थी मोर्चा से जुड़कर इसी के बैनर तले अपनें अधिकारों की लड़ाई लड़ेंगें तभी सफल हो पायेंगें । बोल 85 जय मूलनिवासी। ब्राह्मण विदेशी।

डॉ. श्रीकांत रजक

mai apke suport me hu shalu yadav ladaiya ladte rahiye ham apke sath hai

vipin singh yadav

जी

Salu is right

dr Dev raj

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75805