Wednesday, 22nd November 2017

आशा है नरसिंह के साथ अन्याय नहीं होगा : अखिलेश यादव

Thu, Jul 28, 2016 4:52 PM

लखनऊ. यूपी के सीएम अखिलेश यादव ट्वीट के जरिए नरसिंह यादव विवाद में कूद गए हैं। सीएम अखिलेश ने ट्वीट कर कहा ‘मुझे आशा है कि नरसिंह यादव के साथ अन्याय नहीं होगा।’ बीते 5 जुलाई को नरसिंह यादव डोप टेस्ट में फेल हो गए। अब उनके ओलिंपिक में भाग लेने की संभावानाएं बिल्कुल न के बराबर हो गई हैं।

नरसिंह यादव 5 जुलाई को नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (NADA) की ओर से किए गए दूसरे डोप टेस्ट में भी फेल हो गए हैं। गौरतलब है कि वह इससे पहले 25 जून को किए गए डोप टेस्ट में भी फेल हो गए थे, जिसके बाद इसे लेकर विवाद हो गया।

सूत्रों के अनुसार नरसिंह के फूड सप्लीमेंट में प्रतिबंधित दवा की मिलावट नहीं पाई गई है, जिससे उनका यह दावा गलत निकला है। हालांकि खाने में मिलावट की बात पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

सोनीपत के डीआईजी एचएस दून ने कहा है कि नरसिंह की शिकायत अब भी महज एक आरोप है। उन्होंने कहा, ‘हमने अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया है। आरोपी के खिलाफ केवल केस दर्ज हुआ है। हम कोई भी कार्रवाई करने से पहले इस मामले की छानबीन करेंगे।’

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण सिंह ने कहा कि नरसिंह यादव के खाने में दवा मिलाने की बात सच है। उन्होंने कहा कि सोनीपत कैंप में नरसिंह यादव के खाने में दवाई मिलाई गई। मिलाने वाले आरोपी की पहचान कर ली गई है।

नरसिंह ने यह भी आरोप लगाया है कि उनके खाने में प्रतिबंधित दवा मिलाने वाले युवा पहलवान का घटना के समय का सीसीटीवी फुटेज इसलिए उपलब्ध नहीं है क्योंकि इसमें SAI एडमिनिस्ट्रेटर की भूमिका है। कुश्ती संघ के अध्यक्ष ने कहा, ‘हालांकि इस बारे में नरसिंह ने कोई लिखित शिकायत नहीं की है, लेकिन मीडिया के जरिये संबंधित अधिकारी पर संदेह होने की बात कही है। वह अधिकारी अभी भी संस्थान में है। मेरा मानना है कि यह उचित नहीं है। मंत्रालय का काम अधिकारियों को बचाना नहीं है।’

हरियाणा के खेलमंत्री अनिल विज ने दावा किया है कि SAI केंद्र की गतिविधियों पर राज्य सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है, फिर भी राज्य पुलिस से नरसिंह यादव से जुड़े डोपिंग विवाद की छानबीन करने के लिए कहा गया है।

केंद्रीय खेल मंत्री विजय गोयल ने साफ कर दिया है कि निलंबित खिलाड़ी के स्थान पर नए खिलाड़ी को नहीं भेजा जा सकता है। भारतीय कुश्ती फेडरेशन ने नरसिंह के स्थान पर प्रवीण राणा को भेजने की बात कही थी। भारतीय कुश्ती संघ के मुताबिक जिस आरोपी की पहचान की गई है, वह एक सीनियर अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी का भाई है। उन्होंने यह भी बताया कि आरोपी छत्रसाल अखाड़े में प्रैक्टिस करता है। साई सेंटर के रसोइये ने भी इस आरोपी की पहचान की है।

हालांकि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण सिंह ने पहलवान सुशील कुमार के मुद्दे पर कुछ भी नहीं कहा। कुश्ती संघ के मुताबिक, पहचाने गए लड़के ने नरसिंह के खाने में दवाई मिलाने की बात भी मानी है। नरसिंह पहले दिन से ही कहते आ रहे हैं कि उन्हें किसी साज़िश के तहत फंसाया गया है।

सिंह ने नरसिंह की तारीफ करते हुए कहा था कि 50 से ज्यादा कुश्ती लड़ चुके नरसिंह ने कभी भी डोप टेस्ट देने से मना नहीं किया। कई खिलाड़ी यह टेस्ट देने से मना करते हैं। उन्होंने कहा कि नरसिंह की इस बात की सभी जगह तारीफ होती है और यहां तक की खुद नाडा भी नरसिंह की इस बात के लिए तारीफ कर चुका है। फेडरेशन का आरोप है कि 5 जून को खाने में छौंक लगाते समय प्रतिबंधित दवा डाली गई।

नरसिंह यादव ने इस मामले में सीबीआई जांच की भी मांग की है। कुश्ती संघ के अध्यक्ष ने इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की है।

 
 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
9 %
57 %
Total Hits : 77568