Friday, 22nd September 2017

उत्तरप्रदेश में नहीं काम आई विधायकों की खरीद-फरोख्त

Fri, Jun 10, 2016 7:49 PM

उत्तर प्रदेश के विधान परिषद चुनावों में भारी क्रॉस वोटिंग और विधायकों की खरीद-फरोख्त के बावजूद भारतीय जनता पार्टी कोई उलटफेर नहीं कर पाई। समाजवादी पार्टी के सभी 8 उम्मीदवार जीतने में सफल रहे। बहुजन समाज पार्टी ने भी अपने तीनों उम्मीदवार जिता लिए। कांग्रेस का एक उम्मीदवार जीता और भाजपा का भी एक ही उम्मीदवार जीत सका। भाजपा ने दयाशंकर शुक्ला के रूप में एक अतिरिक्त उम्मीदवार खड़ा किया था और उनको जिताने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त की काफी कोशिश की।

समाजवादी पार्टी के भगवान शर्मा और मुकेश शर्मा ने क्रॉस वोटिंग करते हुए भाजपा को वोट दिए। राष्ट्रीय लोकदल के सुुदेश शर्मा और बसपा से निष्कासित राजेश त्रिपाठी ने भी भाजपा को वोट दिए। गोमांस बेचने की कंपनी चलाने वाले विवादास्पद भाजपा विधायक संगीत सोम  इन क्रॉस वोटिंग करने वालों के साथ देखे गए। सपा से निष्कासित रामपाल यादव ने भी क्रॉस वोटिंग की। बहुजन समाज पार्टी के पक्ष में भी क्रॉस वोटिंग हुई। उसके उम्मीदवारों को कुल 91 वोट मिले जबकि विधानसभा में उसके कुल विधायक 78 ही हैं। क्रॉस वोटिंग सबसे ज्यादा 8 विधायकों वाले राष्ट्रीय लोकदल की ओर से होने का अनुमान है क्योंकि उसका कोई उम्मीदवार मैदान में नहीं था।

समाजवादी पार्टी के विजयी उम्मीदवारों के नाम हैं- बलराम यादव, शतरुद्ध प्रकाश, जसवंत सिंह, बुक्कल नवाब, रामसुंदर दास निषाद, जगजीवन प्रसाद, रणविजय सिंह तथा कमलेश पाठक ।

बहुजन समाज पार्टी के विजयी उम्मीदवार हैं-अमर सिंह राव, दिनेश चंद्रा और सुरेश कश्यप।

कांग्रेस के एकमात्र जीतने वाले उम्मीदवार हैं-दीपक सिंह रहे।

नौ वोट दूसरे दलों से खींचने में सफल रही भाजपा के केवल भूपेंद्र चौधरी जीत सके और दयाशंकर शुक्ला हार गए।

अब सबकी निगाहें 11 जून को होने वाले राज्यसभा चुनावों के मतदान पर टिकी हैं। इसमें भी भाजपा ने नरेंद्र मोदी विचार मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निकट मानी जाने वाली उद्योगपति प्रीति महापात्रा को निर्दलीय खड़ा करके मतदान की नौबत ला दी है।

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75828