Sunday, 19th November 2017

पहले टेस्ट में ये फैसला टीम इंडिया पर बहुत भारी पड़ा

Mon, Aug 17, 2015 2:15 PM

जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। पहले टेस्ट में टीम इंडिया की शर्मनाक हार के बाद टीम को लेकर कई सवाल उठे हैं। फिर चाहे वो कप्तान व टीम मैनेजमेंट से जुड़े फैसलों को लेकर हो या फिर खिलाड़ियों के निजी प्रदर्शन को लेकर। इसी में एक फैसला था पुजारा की जगह रोहित शर्मा को टीम में तरजीह देना। बेशक पुजारा पिछले करीब एक साल से अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं हैं, लेकिन श्रीलंका प्रेसिडेंट इलेवन के खिलाफ अभ्यास मैच में उन्होंने कुछ रन जुटाकर लय में लौटने का संकेत दिए थे। इसके बावजूद वह गॉल में खेले गए पहले टेस्ट के अंतिम एकादश में जगह नहीं बना पाए। कप्तान विराट कोहली ने उनके बदले रोहित शर्मा को चुनना बेहतर समझा, लेकिन कोहली का यह दांव उलटा पड़ गया। - बल्ला था शांत, फिर भी दी गई तरजीह: कोहली श्रीलंका दौरे पर पहुंचने के साथ ही रोहित को तीसरे क्रम पर बल्लेबाजी कराने की कई बार बात कर चुके थे और अभ्यास मैच में मुंबई के इस बल्लेबाज के फ्लॉप होने पर भी कोहली अपने फैसले पर कायम रहे। अभ्यास मैच की पहली पारी में धवन और राहुल की सलामी जोड़ी द्वारा 108 रन जोड़े जाने के बाद मैदान पर उतरे रोहित केवल सात रन बनाकर पवेलियन लौट गए, जबकि दूसरी पारी में वह 20 गेंदों पर आठ रन ही बना सके। - फैंस और आलोचकों का वार: अब श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में अविश्वसनीय हार के बाद रोहित आलोचकों व प्रशंसकों के निशाने पर हैं और कहा जा रहा है कि वह टीम इंडिया के शीर्ष क्रम की सबसे कमजोर कड़ी हैं। भारत को श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट के चौथे दिन 176 रन का लक्ष्य होने के बावजूद 112 रन पर ढेर होकर 63 रन से अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा। - क्या सबसे लंबे फॉर्मेट के लिए तैयार हैं रोहित?: तीसरे नंबर पर उतरने वाले रोहित पहली पारी में नौ और दूसरी पारी में चार रन बनाकर आउट हो गए। वह पहली पारी में 24 और दूसरी पारी में 16 गेंद ही खेल पाए। शीर्ष क्रम के बल्लेबाज की 40 गेंदों में कुल 13 रन की पारी भारत को अंतत: भारी पड़ी। पहली पारी में उनकी असफलता सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और विराट कोहली के शतकों से ढक गई, लेकिन दूसरी पारी में उनकी नाकामी ने यह साबित कर दिया कि वह खुद को अभी तक टेस्ट स्तर के बड़े मंच के लिए तैयार नहीं कर पाए हैं। - लंबा रहा है रोहित का टेस्ट फ्लॉप शो: टेस्ट क्रिकेट में अपनी पहली दो पारियों में लगातार दो शतक लगाने के बाद रोहित अगली 19 पारियों में कुछ खास नहीं कर पाए हैं। अपनी पहली दो टेस्ट पारियों में 288 (177 और नाबाद 111) रन बनाने वाले रोहित ने अगले सभी 10 टेस्ट मैच विदेशी धरती पर खेले और वहां 21.83 के बेहद खराब औसत से महज 393 रन बनाए। इसमें मात्र दो अर्धशतक ही शामिल हैं। श्रीलंकाई दौरे में पहले टेस्ट में रोहित के खराब प्रदर्शन के बाद आखिरकार कप्तान कोहली ने भी मान लिया कि वह अपेक्षाओं के अनुरूप प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं। अब देखना यह होगा कि कप्तान दूसरे टेस्ट मैच में रोहित को दूसरा मौका देते हैं या नहीं। 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

32 %
9 %
59 %
Total Hits : 77389