Monday, 25th September 2017

कन्‍हैया बोले देशभक्ति‍ किसी का पेटेंट नहीं

Fri, Mar 4, 2016 6:10 PM

नईदिल्ली / तिहाड़ जेल से गुरुवार शाम रिहा हुए जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने शुक्रवार को कैंपस में मीडिया को संबोधि‍त किया. देशद्रोह के मामले में आरोपी कन्हैया ने कहा कि संविधान और अदालत पर उनका पूरा भरोसा है. उन्होंने कहा कि जेएनयू में पढ़नेवाला कोई भी छात्र देशद्रोही नहीं हो सकता. काली घटा छटेगी और न्याय होगा.
कन्हैया ने गुरुवार रात में अपने संबोधन में कही गई बात को दोहराते हुए कहा कि जेएनयू के खि‍लाफ योजनाबद्ध साजिश की गई है. लेकिन हमारा किसी से कोई मतभेद नहीं है, हां मनभेद जरूर है.
कन्हैया ने  कहा उमर, अनिर्बान पर देशद्रोह का केस नहीं चले. इस कानून का गलत इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.रोहित वेमुला के लिए इंसाफ की लड़ाई मैं जारी रखूंगा. अफजल को कानून ने सजा दी है. लेकिन वह मेरा आदर्श नहीं है.हम विक्ट्री नहीं यूनिटी मार्च कर रहे हैं.
उन्होंने कहा देश का संविधान कोई डॉक्टर्ड वीडियो नहीं है.मैं प्रधानमंत्री नहीं, देश का एक नागरिक हूं. और देशभक्ति पर किसी का पेटेंट नहीं है.
कन्हैया ने  कहादेश की न्यायिक प्रक्रिया में मेरा पूरा विश्वास है.कोई आदमी बता दे कि वो किसी मुल्क में रहता है तो उस मुल्क की खिलाफत की किसी भी कार्यवाही में कैसे शामिल हो सकता है?कोर्ट ने जो निर्देश दिए हैं, वो मेरा जीवन जीने का तरीका है. ये तो मेरा सपना है जो कोर्ट ने कहा है.
मेरे लिए अफजल गुरु नहीं, रोहित वेमुला आइकन है.इस कैंपस के छात्रों ने मुझे अपना प्रतिनिधि चुना है.मुझे आगे चलकर टीचर बनना है, इसलिए सवाल पूछना और जवाब ढूंढ़ना गलत नहीं है.मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि मैं राजनीतिज्ञ नहीं हूं. मैं सिर्फ एक छात्र हूं 9 फरवरी को जो कुछ हुआ हम उसकी घोर निंदा करते हैं. कोर्ट फैसला करे वह राजद्रोह है या नहीं.संविधानिक दायरे के बाहर जो चीज है, उसका कभी जेएनयू छात्र संघ ने न समर्थन किया है और न कभी करेगा.मनभेद नहीं है, इसलिए मैं 'मन की बात' नहीं कर रहा हूं.
------------------------

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75859