Saturday, 18th November 2017

टीम नीतीश : तेजस्वी, तेज ही नहीं, 11 मंत्री स्कूल की 'दीवार' नहीं लांघ पाए...

Mon, Nov 23, 2015 6:00 PM

पटना। नीतीश कुमार बिहार में सरकार बनाने में कामयाब रहे, लेकिन उन्होंंने अपनी टीम में जो मंत्री शामिल किए हैं, उनको लेकर सवाल उठ रहे हैं। दरअसल, नीतीश ने 28 सदस्यों की कैबिनेट बनाई है, जिनमें से 12 विधायक दसवीं या बारहवीं पास ही हैं। उनके कैबिनेट मंत्रियों ने सोमवार से अपने मंत्रालय का कार्यभार संभालना शुरू भी कर दिया है। लालू के दोनों बेटे तेजस्वी और तेज प्रताप यादव ने भी अपनी कुर्सी संभाल ली है लेकिन इन सबके बीच यादव भाइयों की शैक्षणिक योग्यता पर न केवल सवाल उठ रहे हैं, बल्कि उनकी प्रशासनिक क्षमता पर भी प्रश्नचिन्ह लग रहे हैं। जहां उप मुख्यमंत्री का पद संभालने वाले तेजस्वी सिर्फ 9वीं ही पास हैं, वहीं तेज प्रताप ने अपने हलफनामे में खुद को 12वी्ं पास बताया है। लेकिन इन दोनों के अलावा मंत्रालय के बाकी नेताओं की शिक्षा-दीक्षा कहां तक हुई है, यह भी जान लेना जरूरी है।

नीतीश की टीम में 28 मंत्री हैं, इनमें से 19 पहली बार मंत्री बने हैं। चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध हलफनामों को देखा जाए तो इनमें से 7 मंत्रियों ने पोस्ट ग्रेजुएशन किया है (इनमें से तीन पीएचडी भी हैं), 10 ग्रेजुएट हैं और 11 ऐसे हैं जो स्कूल की सीमा नहीं लांघ पाए। मंत्रीमंडल में तीन महिलाएं हैं जिनमें से परिवहन विभाग को देखने वाली चंद्रिका राय ने आर्ट्स में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की है, वहीं सामाजिक कल्याण की कुमारी मंजू वर्मा 12वीं पास हैं और पर्यटन मंत्री अनीता देवी ने भी स्कूल की पढ़ाई के अलावा अध्यापन की ट्रेनिंग ली है। इसके अलावा वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीक़ी, उर्जा मंत्री बिजेंद्र यादव, स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव और ग्रामीण विकास की देखरेख करने वाले श्रवण कुमार सिर्फ 12वीं पास हैं।

इनके अलावा कृषि देखने वाले रामविचार राय और गन्ना मंत्रालय के फिरोज़ अहमद ने सिर्फ दसवीं तक पढ़ाई की है। वहीं पंचायती राज विभाग के प्रमुख कपिल देव कामत ने अपने हलफनामे में खुद को स्कूल ड्रॉपआउट बताया है यानी उन्होंने पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी। जहां तक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बात है तो उन्हें इंजीनियिंग की डिग्री हासिल है। अंग्रेज़ी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, पूरे कैबिनेट में लालू यादव के दोनों बेटों के अलावा कोई भी मंत्री 40 से कम उम्र का नहीं है। 28 सदस्यीय मंत्रीमंडल के सदस्यों की औसत उम्र 52 हैं, यही नहीं एक चौथाई मंत्रियों की उम्र 60 से भी ज्यादा है, खुद नीतीश कुमार 64 साल के हैं।

बिहार के स्कूल पास मंत्री

अब्दुल बारी सिद्दीकी : 12वीं पास। आरजेडी कोटे से वित्त मंत्री।

बृजेंद्र यादव : 12वीं पास। जदयू के वरिष्ठ विधायक। ऊर्जा विभाग सौंपा गया है।

अनिता देवी : 12वीं पास। 45 वर्षीय आरजेडी विधायक को पर्यटन मंत्रालय सौंपा गया है।

राम विचार राय : 10वीं पास। लालू की पार्टी के वरिष्ठ विधायक हैं, जिन्हें नीतीश ने कृषि मंत्रालय सौंपा है।

कुमारी मंजू वर्मा : 12वीं पास। जदयू कोटे से इन्हें सामाजिक कल्याण मंत्रालय दिया गया है।

महेश्वर हजारी: 12वीं पास। नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी के इस विधायक को शहरी विकास सौंपा है।

अब्दुल जलील मस्तान: 12वीं पास। कांग्रेस विधायक को रजिस्ट्रेशन एंड एक्साइज डिपार्टमेंट दिया गया है।

फिरोज अहमद: 10वीं पास। जदयू के विधायक को गन्ना विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कपिलदेव कामत : स्कूली पढ़ाई बीच में छोड़ी। जदयू के इस विधायक को पंचायत राज विभाग मिला है।

श्रवण कुमार: 12वीं पास। नीतीश ने अपने इस विधायक को ग्रामीण विकास मंत्रालय सौंपा है।

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

31 %
9 %
59 %
Total Hits : 77345