Sunday, 19th November 2017

शीना बोरा मर्डर केस : सीबीआई ने अपने आरोप पत्र में कहा- शीना को जिंदा साबित करने के लिए चलीं चालें

Mon, Nov 23, 2015 5:58 PM

नई दिल्ली: शीना बोरा मर्डर केस में सीबीआई ने आरोप पत्र में लिखा है कि क़त्ल के बाद भी शीना को जिन्दा साबित करने के लिए इन्द्राणी मुखर्जी और संजीव खन्ना ने मिलकर कई चाल चली थी। दोनों ने इसके लिए शीना का ईमेल अकॉउंट  एक्सेस करने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्होंने बाकायदा गूगल को 30 अप्रैल , 1 मई और 2 मई 2012 को कुल 3 मेल किया था।

आरोप पत्र के मुताबिक, संजीव खन्ना ने 17 जून 2012 के दिन 2 डॉलर में गूगल अकाउंट रिकवर करने के टूल ख़रीदा था। लेकिन जब वे शीना का जीमेल अकाउंट एक्सेस करने में सफल नहीं हुए तब इन्द्राणी ने अपनी सेक्रेटरी काजल शर्मा से शीना बोरा का हॉटमेल का अकाउंट बनवाया।

उसके बाद इन्द्राणी ने उसी ईमेल आईडी का इस्तेमाल कर लोगों को शीना बोरा के हवाले से 21जुलाई 2012 को मिखाइल को, 14 मार्च को पीटर मुखर्जी, और 26 अगस्त और 27 जनवरी को विधि को ईमेल किये। उसी हॉटमेल ईमेल आईडी से शीना के फ्लैट मालिक को भी ईमेल भेजा गया था कि वह फ्लैट खाली करना चाहती है।

विधि मुखर्जी ने अपने बयान में कहा है कि पीटर के वर्ली स्थित घर में रहने आई थी। तब मां इन्द्राणी ने शीना को अपनी बहन और मिखाइल को भाई के तौर पर मिलवाया था। आरोप पत्र के मुताबिक, शीना और राहुल में प्रेम सबंध था। जिसे लेकर पीटर और इन्द्राणी के बीच भी तनाव था। विधि ने कहा है कि मां मुझे भी कहती थी कि शीना और राहुल से बात मत करो। बाद में मुझे पता चला कि शीना इन्द्राणी की बहन न होकर बेटी थी।

विधि के मुताबिक, वह जब शीना के बारे पूछती तो मां गुस्सा करती थी। विधि को भी शीना के हॉटमेल अकाउंट से 26 अगस्त 2012 को ईमेल आया था-

विधि और शीना के कथित ईमेल के जरिये 3 बार बात हुई थी।उसके बाद बात बंद हो गई। 2015 में विधि आगे की पढ़ाई के लिए लंदन चली गई।

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

32 %
9 %
59 %
Total Hits : 77357