Wednesday, 22nd November 2017

"मोटा भाई" के सामने शिवराज मुरझाये

Fri, Aug 18, 2017 2:20 PM

 स्वागत को लेकर ग़दर 
                

    भोपाल : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मोटा भाई 110 दिवसीय भारत यात्रा के तहत आज सुबह 9 बजे भोपाल पहुंचे। वे रैली के रूप में 11:30 बजे प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे। जहां उन्होंने पूजा-अर्चना के बाद सत्ता और संगठन के पदाधिकारियों की संयुक्त बैठक की शुरूआत की। बैठक तय समय से डेढ़ घंटे देर से शुरू हुई | बैठक में शाह ने मप्र संगठन की तारीफ करते हुए कहा नेताओं को चेताया कि खुद पर सत्ता को हावी होने से बचें। पंडित दीनदयाल उपाध्याय के आदर्शों पर चलकर अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक योजना का लाभ पहुंचाने की दिशा में हमें दोहरी जिम्मेदारी के साथ काम करना है।​शाह ने सत्ता और संगठन के पदाधिकारियों को चेताया कि राजनीति में आने के बाद नेताओं पर सत्ता का रंग चढ़ जाता है। जिससे जनता के बीच दूरी बढ़ जाती है। उन्होंने नेताओं को संकल्प दोहराते हुए कहा कि अगले लोकसभा चुनाव में 350 सीट का लक्ष्य पाना है। उन्होंने नंदकुमार चौहान की 200 विधानसभा सीट के लक्ष्य पर काम करने को कहा। इस दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान का मुरझाया चेहरा चर्चा का विषय रहा , बैठक के बाद कोई भी नेता मीडिया से बात करने को तैयार नहीं हुआ सबके के चेहरे की हवाइयां उडी हुई थी | 
संयुक्त बैठक में राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामपाल, प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, थावरचंद्र गहलोत, फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार चौहान, संगठन महामंत्री सुहास भगत समेत प्रदेश सरकार के मंत्री, पार्टी के केन्द्रीय पदाधिकारी, प्रदेश कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश प्रवक्ता, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय संगठन मंत्री, मोर्चो के प्रदेश अध्यक्ष, विभाग, प्रकोष्ठ और प्रकल्पों के प्रदेश संयोजक तथा पार्टी के जिला प्रभारी मौजूद रहे। 
स्वागत की लंबी प्रक्रिया से शाह नाराज हो गए
इससे पहले  अमित शाह शुक्रवार सुबह 9 बजे विशेष विमान से भोपाल पहुंचे। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया, इस दौरान उनके साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और मंत्रिमंडल के सभी सदस्य मौजूद थे। इसके बाद रास्ते में उनका स्वागत हुआ और करीब 12 बजे वो बैठक स्थल पर पहुंच पाए। स्वागत और भाषणों की इस लंबी प्रक्रिया से शाह नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि वे मप्र में स्वागत कराने और भाषण सुनने नहीं आए हैं।समय के मामले में पाबंद माने जाने वाले अमित शाह की पहली बैठक डेढ़ घंटे देरी से शुरू हुई। स्वागत भाषण के दौरान शाह ने नंदकुमार सिंह चौहान को टोका और कहा कि ज्यादा भूमिका मत बनाइए। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष और सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ही उनका स्वागत कर बैठक शुरू की। बैठक में केंद्रीय पदाधिकारी, कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश प्रवक्ता, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय संगठन मंत्री, मोर्चा के प्रदेध अध्यक्ष, विभाग, प्रकोष्ठ और प्रकल्पों के प्रदेश संयोजक और पार्टी प्रभारी उपस्थित रहे।​

स्टेट हैंगर और बैठक स्थल पहुंचने के बीच उन्होंने लालघाटी में पं. दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति का अनावरण किया। इसके बाद बड़े तालाब पर पहुंचकर राजा भोज की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस दौरान उनके स्वागत में कार्यकर्ताओं ने बाइक रैली भी निकाली।
भाजपा जहां शाह के दौरे को लेकर अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है वहीं कांग्रेस भी इस हलचल पर नजर गड़ाए हुए है। अपने दौरे में शाह मंत्रियों के परफॉरमेंस पर भी बात करेंगे, जिसका असर अगले मंत्रिमंडल विस्तार पर पड़ने की संभावना है। शाह ने दोपहर को  जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा के यहां दोपहर का भोजन किया इस मौके पर चुनिंदा पत्रकारों को भी बुलाया गया था |  शनिवार को वे सीएम हाउस में संतों के साथ भोज में शामिल होंगे। इस कार्यक्रम के लिए देश के दो सौ बड़े संतों को आमंत्रित किया गया है।
कार्यकर्ता दुखी हुए 
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के भोपाल आगमन पर भाजपा प्रदेश ने विभिन्न समाजों को स्वागत करने के लिए आमंत्रित किया था।
इन समाजों द्वारा लिंक रोड़ नम्बर एक से भाजपा कार्यालय तक सड़क किनारे बड़े-बड़े मंच बनाए गए जहाॅ सैकड़ो कार्यकर्ता हाथों में गुलदस्ते मालाए और पुष्प् लिए दो घंटे तक प्रतिक्षा करते रहे।अमित शाह जैसे ही साढ़े दस बजे इस मार्ग सं गुजरे स्वागत को आतुर यह समाज सड़कों पर उनके स्वागत के लिए उतर आए और उनकी गाड़ी के सामने स्वागत करने पहुचे लेकिन अफसौस इस बात का है कि अमित शाह अपनी गाड़ी में बंद कांचों के भीतर बैठे रहे उन्होनें अपनी गाड़ी का शीशा तक नहीं उतारा और हजारों रूपए के हार फूल सड़को पर ही बरबाद हो गए।उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पिछले दिनों घोषणा कर चुके है कि स्वागत समारोह में हार फूल पुष्प का उपयोग नहीं किया जाएगा किन्तु उसके उलट किया गया जो गले गले में पहनाना था वह हारों की दुर्दशा सड़को पर देखने को मिली और समाज के जनप्रतिनिधियों को स्वागत बिना निराश लौटना पड़ा।
शाह के आने के पहले आडवाणी का नाम हटाया....!!!
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के भोपाल आने से कुछ घंटे पहले प्रदेश भाजपा कार्यालय में लगी पार्टी के वरिष्ठ लालकृष्ण आडवाणी के नाम की पट्टिका उखाड़ दी गई है। आड़वाणी प्रदेश कार्यालय का उद्घाटन किया था तब यह पट्टिका लगाई गई थी। अभी यह नहीं पता कि यह पट्टिका किसके कहने पर उखाडी गई है।
एक हजार से अधिक जवान लगे सुरक्षा में
 शाह के भोपाल दौरे के दौरान एक हजार से अधिक पुलिस बल सुरक्षा-व्यवस्था में लगाया गया है।  सुरक्षा की मानीटरिंग का जिम्मा खुद आईजी योगेश चौधरी और डीआईजी संतोष सिंह संभाले हुए हैं। शाह की रैली के पॉलिटेक्निक चौराहे आते तक वीआईपी रोड पूरी तरह से आम यातायात के लिए प्रतिबंधित रहा। साथ ही कई मार्गों पर वाहनों पर परिवर्तित मार्ग से निकाला गया। पुलिस अधिकारियों की मानें तो अमित शाह को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है। इसलिए उनकी सुरक्षा में कोई कोताली नहीं बरत सकते। जिला पुलिस के साथ स्पेशल कमांडो व हॉकफोर्स के जवानों को भी तैनात किया गया है। सुरक्षा के लिए त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया गया है।

 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
9 %
57 %
Total Hits : 77568