Sunday, 19th November 2017

मेडिकल प्रवेश में आरक्षण : बदलाव से केंद्र सरकार अनभिज्ञ, केंद्रीय स्वास्थ मंत्री से ओबीसी प्रतिनिधि मंडल ने की भेंट !

Tue, Jul 25, 2017 2:40 PM

नईदिल्ली! केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा मेडिकल शिक्षा प्रवेश परीक्षा के नतीजे आने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर आरक्षित सीटों के कोटे में किए गये बदलाव से समूचे देश में ओबीसी उम्मीदवारों मे असंतोष का माहौल है। राष्ट्रीय स्तर पर ओबीसी को दिए जानेवाले २७ फीसदी आरक्षण को घटाकर २ फीसदी  से भी कम करने का मामला उजागर हुआ है। उल्लेखनीय है कि ओबीसी आरक्षण मे किए गये बदलाव की जानकारी केंद्र के स्वास्थ विभाग को न देने का मामला राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ के प्रतिनिधि मंडल एवं स्वास्थ मंत्री जे.पी. नड्डा के बीच हुई  भेंट मे प्रकाश मे आया। श्री. नड्डा ने इस संदर्भ में शीघ्र संज्ञान लेकर ज्वाइंट सेक्रेटरी एवम संबंधित विभाग को चेतावनी  दी।  आपको बता दे कि एक पहले ओबीसी शिष्टमंडल ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर, स्वास्थ राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल एवम सामाजिक न्याय राज्यमंत्री रामदास आठवले से मुलाकात कर उन्हे इस संबंध मे ज्ञापन सौंपा था ।
स्वास्थमंत्री श्री जे.पी. नड्डा से भेट करने वाले राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ के प्रतिनिधी मंडल में सांसद नाना पटोले,संयोजक प्रा. बबनराव तायवाडे, राजनितीक समन्वयक तथा पूर्वसांसद डॉ. खुशाल बोपचे, खेमेंद्र कटरे, सचिन राजूरकर, एड. जय ठाकूर, हंसराज जांगिड, गुडरी व्यंकटेश्वर राव, मनोज चव्हान, सुरेंद्र आर्य इन पदाधिकारीयोंने हिस्सा लिया था।
गत ७ मई को समूचे देशमें मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट का आयोजन किया गया था। इस परीक्षा मे ओबीसी उम्मीदवारों ने अपनी प्रतिमा को सिद्ध कर दिखाया। पूरे देश मे मेडिकल की कुल ६३ हजार ८३५ सीट उपलब्ध है। इन सीटों में  १५ फीसदी सीटे राष्ट्रीय कोटे से आरक्षित की गयी है। इन सीटों मे से १५ फीसदी अनुसूचित जाति  एवम ७.५ फीसदी सीटे अनुसूचित जनजाति  के लिए आरक्षित है। लेकीन, आरक्षण संबंधी सभी नियम कायदों एवम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अनादर कर ओबीसी आरक्षण २७ फिसदी से घटाकर २ फीसदी से भी कम कर ओबीसी को केवल ६८ सीटे दी गयी। परिणामस्वरूप, ओबीसी कोटे की २ हजार ४५७ सीटे खुले वर्ग में तबदील कर दी गयी। खास  बात यह है की, आरक्षण कोटे में किये गये इस बडे बदलाव की सूचना सीबीएसई ने केंद्र की सरकार से दबा कर रखी।
इस प्रकरण को लेकर राष्ट्रीय ओबीसी महासंघके के पदाधिकारीयोंने  केंद्रीय स्वास्थ मंत्री जे.पी. नड्डा से मुलाकात कर उनसे विस्तार से चर्चा की। इस सारे घटनाक्रम से स्वास्थमंत्री नड्डा ने इस प्रकरण की कोई सूचना या जानकारी नही होने जानकारी देते हुये, ज्वाइंट सेक्रेटरी से जानकारी हासिल करने का प्रयास किया। लेकीन ज्वाइंट सेक्रेटरी अरुण सिंघल ने भी जानकारी नही होने की बात कही। इस घटना से नाराज़  मंत्री ने  सीबीएसई प्रमुख से फोन पर बात कर खरीखोटी सुनाते हुये प्रवेश प्रक्रिया संबंधी विस्तृत रिपोर्ट  देने के आदेश दिए । 

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

32 %
9 %
58 %
Total Hits : 77414