Sunday, 19th November 2017

यूपी विधानसभा में पिटकर भी खुश है मीडिया !!

Fri, Jul 21, 2017 3:36 PM

- महेंद्र नारायण सिंह यादव -

बिहार में तेजस्वी यादव के अंगरक्षकों के हाथों पत्रकारों की कथित पिटाई पर जमकर हो-हल्ला मचाने वाली पत्रकार बिरादरी अब उत्तर प्रदेश विधानसभा में पत्रकारों के साथ बदसलूकी पर एकदम मौन है। बजट के दिन विधानसभा में कुछ मंत्रियों के कहने पर पत्रकारों के साथ जो बदसलूकी हुई वह इसके पहले आज तक नहीं हुई थी।

पत्रकारों के हाथों से भोजन की थालियां छीन ली गईं और महिलाओं समेत सभी पत्रकारों को विधानसभा के सुरक्षाकर्मियों ने खदेड़कर बाहर कर दिया। इस दौरान कई पत्रकारों के साथ हाथापाई भी हुई।

पूरे घटनाक्रम के बीच विधानसभा के अफसर पत्रकारों का मजाक उड़ाते रहे। घटना से नाराज़ कुछ पत्रकारों ने संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना का घेराव किया। बदसलूकी के पीछे का कारण बताया जा रहा है कि विधानसभा की हो रही रिपोर्टिंग के तरीके से अफसर और मार्शल नाराज थे। 

सामान्य तौर पर विभागीय बजट पेश होने के समय सदन के सदस्यों और पत्रकारों के लिए सरकार की ओर से भोजन का इंतजाम होता है, लेकिन घटना के दिन जब बजट के बाद जब पत्रकार कैंटीन में भोजन के लिए गए तो मार्शलों ने उन्हें खदेड़कर भगा दिया। 

बाद में हालाँकि संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने घटना पर खेद जताकर मामला शांत करने की कोशिश की लेकिन पत्रकारों ने इसके बाद भोजन करने से मना कर दिया।

पूरे मामले पर सारे बड़े अखबार और टीवी चैनल एकदम शांत हैं। ये वही मीडिया है जो बिहार के मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के गार्डों द्वारा पत्रकारों की कथित पिटाई की खबरें अभी तक चटखारें लेकर चला रहा है। अधिकतर न्यूज़ पोर्टल भी इस मामले पर मौन साधे हैं। अभी तक द वायर,  इंडिया संवाद और जनमत टीवी की वेबसाइट्स पर ही ये खबर देखने को मिल रही है।

हालाँकि सोशल मीडिया पर वरिष्ठ पत्रकार और लेखक पंकज चतुर्वेदी ने ये मामला उठा दिया है जिसके बाद प्रबुद्ध तबका यूपी सरकार की कड़ी आलोचना कर रहा है।

पंकज चतुर्वेदी ने लिखा है-तेजस्वी यादव के सुरक्षाकर्मियों द्वारा एक पत्रकार पर हमले का कोहराम याद है ना। हर हिंदी चेनल पर बहस, मजम्मत होती रही।
कल उत्तर प्रदेश विधान सभाके केंटीन में 50 से ज्यादा पत्रकारों के हाथ से खाने की प्लेटें छुड़ा ली गईं, उन्हें धक्के मार कर भोजनालय से बाहर कर दिया गया। गालियां अलग से। वहां खड़े अफसर इस बेइज्जती पर हंसते रहे।
क्या किसी चेनल पर इस मसले पर बहस, भर्त्सना सुनी क्या?
यही गोदी पत्तलकार कहलाते है। जूते खा कर भी तलवा चाट रहे हैं।

पत्रकार अंबरीश कुमार ने भी घटना की निंदा की है, और घटना से संबंधित वीडियो भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। उन्होंने लिखा है-सरकार की तरफ से विधान सभा में पत्रकारों को दिए गए या न दिए गए भोज पर विवाद का वीडियो .कई की प्लेट छीन ली गई तो कई को धकियाया गया था तो कई को धमकाया वह भी विधान सभा के मार्शल ने। 

द वायर पर छपे अपने लेख में अंबरीश कुमार ने नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी का बयान दिया है जिसमें श्री चौधरी ने कहा है- ‘सत्तारूढ़ विपक्ष को हर तरह से धमका रहा है। मार डालेंगे, काट डालेंगे से लेकर डंडा चलेगा जैसे शब्द जब सदन के नेता ही इस्तेमाल करें तो सत्तारूढ़ दल के बाकी मंत्री और विधायक से क्या उम्मीद कर सकते हैं। विपक्ष ने गुरुवार को भी वाक आउट किया तो शुक्रवार को भी सदन में नही गए।  विपक्ष को धमकाने के लिए एक खानदान को जेल भेज देने की धमकी दी जा रही है। सभी जानते हैं कि यह खानदान कौन है।’

 

Comments 1

Comment Now


Previous Comments

Bahut badiya

Satya singh

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

32 %
9 %
59 %
Total Hits : 77389