Wednesday, 22nd November 2017

बंजर सरकार का उपजाऊ दृष्टिकोण

Mon, Jul 10, 2017 5:45 PM

- रक्षा यथार्थ

रात में  भेड़ों की रखवाली करने वाले गड़ेरिये की तरह गांव वालों को भ्रम में डाल रहे है,कि दौड़ो दौड़ो..गांव वालो, मेरी भेड़ को भेड़िया उठा रहा है, लेकिन उस गड़रिये का यह भ्रम जाल बहुत दिनों तक नहीं चला और गांव वालों ने उसकी पुकार पर आना छोड़ दिया और एक रात वह चिल्लाता ही रह गया, और भेड़िया सच में आया और उसकी भेड़ को उठा ले गया...!
वैसे ही हमारे हिन्दू धर्म के कुछ लम्बरदार , झंडावरदार तथा ठेकेदार पूरे देश और विश्व को भ्रम मे डाल रहे हैं  कि उनका हिन्दू धर्म और राष्ट्र संकट में हैं ...!
हमारे देश का विषम संकट मोचक रूस तो अब आने से रहा ..और जिसकी तरफ हम नजरें गड़ाये गलबहियां किए और कर रहे हैं, वे ही भेड़िये हमारे देश के जवानों को निगलते जा रहे हैं! ...फिर भी हम बेशर्म और कायर लोग अपनी ही पीठ स्वयं ठोककर वाह वाह कर रहे हैं एवं कमजोर,पीटउर और लातड़ आदमी की तरह सौ सौ जूता खाने के बाद भी कह रहे है कि जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा ,अब हम चुप नहीं बैठेंगे ...भारत माता की जय!
इन्हीं लोगों ने देश की संविधान और कानूनी व्यवस्था को चुनौती देते हुए अयोध्या में नंगा नाच नाचा ..जिसकी विश्व में कड़ी निंदा की गयी ..और भारत में तरह तरह के वाद फैल गए..! जिन्होंने इस स्थिति को रोकने का प्रयास किया उन्हें ही अनेक अपशब्दों से नवाजा गया..लेकिन आज वे ही अपशब्द बोलने वाले न्यायालय में चक्कर काट रहे हैं। पाकिस्तान में मजारों पर आँसू गिरा रहे हैं, जिससे घृणा करने की बात करते हैं, उन्हीं के यहाँ अपनी बहन बेटियों की शादियाँ किए हैं, तथा खुले मंच पर उन्हीं का पैर छूकर वोट मांगने में गौरव महसूस कर रहे हैं ...और दूसरी ओर मुँह घूमा कर उन्हीं से नफरत करने का नाटक कर रहे हैं! और तो और अपनी शान बचाने के लिए उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री का चुनाव लड़ने में बहन बेटियों  की इज्जत तक का सौदा कर गए।

आपके द्वारा कथित बयान ने विश्व में भारत को जगहंसाई का कारण तो बनाया ही ...साथ में महिलाओं की स्वतंत्रता पर प्रश्नचिन्ह भी खड़ा कर दिया गया।

क्या शाम का अंधेरा ही महिलाओं के साथ हो रही वारदातों का कारण है? क्या पुरुषों से महिलाओं को खौफग्रस्त रहना चाहिए और डर कर अपने घर में कैद हो जाना चाहिए ?? इस प्रकार के तमाम सवालों को  मन में जन्म देती रही है मौजूदा सरकार..! आखिर सत्ता में आने के बाद क्यों नहीं स्त्री बलात्कार की वारदातों में कमी आई? क्यों नहीं महिलाओं के लिए देर रात तक सुरक्षा की व्यवस्था के इंतजाम किए गए...एंटी रोमियों स्क्वायड की भी हवा फुस्स हो गयी!

पिछली सरकारों से ज्यादा रेप ,हत्या,छिनौती की घटनाएं उत्तर प्रदेश में घट रही हैं! मुख्य बिंदु पर गौर करिए तो हम यह देखते हैं कि स्वयं सत्ताधारी सरकार ही महिला विरोधी बनी हुई है जो महिलाओं का रेप कर रही है।

अभी हाल में बीजेपी नेता ने चलती बस मे महिला का रेप किया ...जिस पर किसी प्रकार की टिप्पणी सत्ताधारी की तरफ से नही हुई ...! क्या हम महिलाएं क्रिकेट से मारी गयी गेंद है? ..जिसे जब चाहा गया सरकार द्वारा अपने हित में इस्तेमाल किया गया ...कभी छक्का तो कभी चौका या दौड़ कर रन बनाने की होड़ लगी हुई है ...!  सशक्तिकरण की बयार में सत्ताधारी पार्टी ने महिलाओं का खूब प्रदर्शन  कराया ....! ऐसा डंका पीटा कि संसद मे महिलाओं की संख्या सर्वाधिक है..तत्कालीन सरकार महिलाओं की हितैषी हैं !  इससे स्पष्ट होता है कि महिलाओं के नाम पर अपनी कुर्सी को लाइम लाइट मात्र पहुंचाया गया ! उनका इस्तेमाल किया है,और बदले में उन्हें वो पिचकारी थमा दी गयीं जिसे पुरुषवादी सरकार जब दबाये तभी पिचकारी से रंग निकले...! 
अपने स्वार्थ से ऊपर उठकर देश हित की राजनीति करिए साहब ,सत्ता का नशा चंद दिनों का है,जब इसका पतन होगा तो देश की अर्थव्यवस्था,सामाजिक व्यवस्था सदियों पीछे जा चुकी होगी ..! हम उसी दौड़ में शामिल हो रहे है जिसके पास बीज तो होगा किन्तु उपजाऊ जमीन नहीं ...!!

(लेखिका रक्षा यथार्थ समतावादी विचारों की स्वतंत्र लेखिका हैं, और सम-सामयिक विषयों पर बेबाक टिप्पणियों के लिए जानी जाती हैं)

 

 

Comments 2

Comment Now


Previous Comments

धन्यवाद!

रक्षा यथार्थ

अति सुन्दर लेख

Vikrama yadav

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

34 %
9 %
57 %
Total Hits : 77568