Monday, 25th September 2017

नरेंद्र मोदी दो तिहाई बहुमत दिलाएंगे बिहार में : जेटली

Thu, Oct 29, 2015 5:29 PM

पटना : केंद्रीय वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता के कारण भाजपा नीत गठबंधन दो तिहाई बहुमत से बिहार में सरकार बनाएगा।
पार्टी ऑफिस में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा, 'पीएम मोदी की लोकप्रियता बरकरार है। लोगों को उन पर भरोसा है। यह बात उनकी रैलियों में लोगों की भारी भीड़ से साबित हो रही हैं। वे भाजपा नीत एनडीए गठबंधन को दो तिहाई बहुमत दिलाने में मुख्‍य भूमिका निभाएंगे।'
 जेटली ने कहा कि महागठबंधन हताश लोगों का जमावड़ा है। इसमें एक मात्र नेशनल पार्टी कांग्रेस है और कांग्रेस बिहार में अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष कर रही है। उन्होंने दावा किया कि बिहार में एनडीए को पूर्ण बहुमत मिलेगा और राज्य में एनडीए की ही सरकार बनेगी।
जेटली ने कहा कि पहले और दूसरे चरण में हम आगे रहे हैं और तीसरे चरण में भी एनडीए को एक तरफा बढ़त मिली है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि चौथे और पांचवे चरण में भी एनडीए को ही एकतरफा जीत मिलेगी।
अरुण जेटली ने कहा कि तीन मुख्य कारणों से बिहार में एनडीए को जीत मिलने वाली है। पहला है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता। पीएम की चुनावी सभा में जिस तरह से लोगों की भीड़ जुट रही है इससे पता चलता है कि जनता में मोदी के प्रति विश्वास कायम है। लोग उत्साह से उन्हें सुनने आ रहे हैं।
दूसरा कारण यह है कि बिहार के लोग अब केंद्र और राज्य में एक ही पार्टी की सरकार बनाना चाहते हैं। दोनों जगह एक ही पार्टी की सरकार होगी तो राज्य का फायदा होगा। अभी तक जिस पार्टी की सरकार दिल्ली में रही है, उसके विपक्ष की सरकार बिहार में रही है।
उन्होंने कहा कि ऐसा होने पर बिहार को नुकसान हुआ है। केंद्र सरकार द्वारा दिए गए 1.65 लाख करोड़ रुपए के पैकेज से भी बिहार के लोगों को उम्मीद है। लोगों को लग रहा है कि अगर भाजपा की सरकार बनती है तो इस पैकेज से बिहार का विकास होगा।
जेटली ने तीसरा कारण यह बताया कि महागठबंधन हताश लोगों का जमावड़ा है। इसमें एक मात्र नेशनल पार्टी कांग्रेस है और कांग्रेस बिहार में अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष कर रही है। दूसरी पार्टी है राजद जो एक पारिवारिक समूह है। जहां एक पीढ़ी चुनाव नहीं लड़ सकती। किसी तरह से दूसरी पीढ़ी खड़ी हो जाए इसके लिए वह कोई भी कीमत चुकाने को तैयार है। तीसरी पार्टी है जदयू, जो अवसरवादी राजनीति के लिए अपना आखरी दांव खेल रही है।
जदयू का राजनीतिक इतिहास ही ऐसा रहा है। बीजेपी के साथ गठबंधन किया और अपने स्वार्थ के चलते अलग हो गए। उन्हें उम्मीद नहीं थी कि सजा के बावजूद लालू को जमानत मिल जाएगी और वह अपने वोट बैंक को एकजूट करने में कामयाब हो जाएंगे।

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75859