Tuesday, 19th September 2017

महासमुंद की निर्भया को कौन दिलाएगा इन्साफ?

Sat, May 6, 2017 3:07 AM

- महेंद्र नारायण सिंह यादव 

दिल्ली के चर्चित निर्भया गैंगरेप के दोषियो को तो सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा का ऐलान हो गया और इस पर लोग बहुत खुशी और संतुष्टि भी जता रहे हैं, लेकिन पिछले साल महासमुंद में भी एक निर्भया कांड हुआ था, उसकी किसी को याद तक नहीं। इसका कारण कहीं ये तो नहीं कि महासमुंद में आरोपी, एक भाजपा नेता का बेटा है। 

 छत्तीसगढ़ पुलिस  महासमुंद जिले के पिरदा गाँव में चलती कार में हुए गैंगरेप के मामले में स्थानीय बीजेपी नेता जसवंत सिंह सलूजा का बेटा प्रिंस सलूजा को सज़ा मिल पाएगी, इसमें बड़ा संदेह है। पिछले साल अक्टूबर में निर्भया कांड की  तरह ही नृशंसता दिखाने वाला अब न मीडिया की निगाह में है, और न ही मोमबत्ती गैंग की निगाह में। 

प्रिंस सलूजा को तो पकड़ा ही बहुत मुश्किल से गया था। गिरफ्तार किए जाने के वक्त वह ओडीशा बॉर्डर से कार से भाग रहा था। उसके दो साथी पहले ही पकड़े जा चुके थे, लेकिन भाजपा के दबाव में पुलिस इसे फरार बताकर गिरफ्तार करने से बच रही ही थी।

गैंगरेप करने और निर्भया कांड को दोहराने की कोशिश करने वाला प्रिंस सलूजा इलाके में बिगड़ैल और आवारागर्द के रूप में बदनाम रहा है। आरोप है कि उसने 11 अक्टूबर को दो दोस्तों के साथ मिलकर मंगलवार को 36 साल की महिला के साथ सामूहिक बलात्कार किया, प्राइवेट पार्ट पर रॉड से हमला भी किया और वीडियो भी बनाया। फरार आरोपी प्रिंस सलूजा बसना के पूर्व मंडल महामंत्री और भाजपा नेता जसवंत सिंह सलूजा का बेटा है।

प्रिंस सलूजा सही मायने में रईस बाप की बिगड़ैल औलाद है। महंगी गाड़ियों में घूमना, हथियार रखना और हथियारों के साथ फोटो खिंचाना और विलासतापूर्ण जीवन जीना ही उसकी जिंदगी का मकसद है। ऐसे में महिलाओं को केवल भोग्या समझना उसके लिए आम बात है। दौलत और सत्ता के इसी नशे में उसने महासमुंद में दिल्ली के निर्भया कांड को दोहराने की कोशिश की। अपने दो साथियों के साथ न केवल उसने गैंगरेप किया, बल्कि महिला के प्राइवेट पार्ट पर रॉड से हमला भी किया। महिला को धमकाने और आगे ब्लैकमेल करते रहने के इरादे से उसने घटना का वीडियो भी बना डाला। 

बिगड़ैल औलाद अपने नाम के अनुरूप अपने को किसी प्रिंस से कम नहीं समझता है। उसकी दौलत पर ऐश करने के इरादे से उसके पास मुफ्तखोर चमचों की भी कमी नहीं रहती।  अली और देवेंद्र नाम के दो ऐसे ही चमचों ने पीड़ित महिला को उसके घर के पास से जबरन उठाकर कार में डालने में मदद की और फिर गैंगरेप में भी भागीदार बने।

पुलिस के मुताबिक, महिला को उसके घर के पास से उठाया गया। पीड़ित महिला उस समय महिला अपनी बहन के साथ थी। आरोपियों के नाम 23 वर्षीय देवेंद्र, 25 वर्षीय अली और 23 वर्षीय प्रिंस सलूजा हैं। तीनों उस महिला को जबरन कार में डालकर ग्राम झगरेनडीह गोडमर्रा के बीच जंगल में ले गए, जहाँ तीनों ने बारी-बारी से महिला के साथ रेप किया।


पीड़ित महिला ने अगले दिन पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। तब तीन में से दो आरोपी गिरफ्तार किए गए लेकिन भाजपा नेता का बेटा प्रिंस सलूजा को फरार बताया जाता रहा। सामूहिक बलात्कार के लिए इस्तेमाल की गई कार भी बरामद की जा चुकी है। तीनों पर सामूहिक बलात्कार और धमकी देने का मामला दर्ज किया गया ।

पीड़ित महिला ने कहा है कि तीनों आरोपियों ने उसके साथ गैंगरेप किया, वीडियो बनाया और किसी से चर्चा करने पर वीडियो को सार्वजनिक करने की धमकी दी।

पीड़ित महिला बलोदाबाजार-भाटापारा जिले के एक प्राइवेट स्कूल में रसोइया के तौर पर काम करती है। पुलिस पर आरोप है कि वह भाजपा नेता जसवंत सिंह सलूजा के दबाव में प्रिंस सलूजा को बचाने की कोशिश कर रही है और उसे जान-बूझकर फरार होने का मौका देती रही जबकि बाकी दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। 

महिला के साथ गैंगरेप और निर्भया कांड को दोहराने की कोशिश करने वाले प्रिंस सलूजा की करतूत सामने आने पर इलाके में काफी नाराजगी देखी जा रही है। कांग्रेस ने भी घटना का कड़ा विरोध किया है और तीनों आरोपियों को कड़ी सजा देने की मांग की है।

लोगों का कहना है कि निर्भया कांड के दोषियों की तरह प्रिंस सलूजा को भी फांसी की सजा होनी चाहिए। कानून के जानकारों के मुताबिक, प्राइवेट पार्ट पर रॉड से हमला करने के कारण, उस पर हत्या की कोशिश का मामला तो बन ही सकता है। 

दूसरी तरफ, पुलिस और भाजपा हर तरह से जसबीर सलूजा के बेटे प्रिंस को बचाने में लगे हैं।  पहले तो पुलिस ने एफआईआर में प्रिंस सलूजा का नाम ही नहीं दर्ज  किया था। 

इधर, भाजपाई उस महिला के चरित्रहनन की कोशिश में लग गए हैं, और कोशिश कर रहे हैं कि उस महिला की प्रिंस सलूजा से पुरानी दोस्ती साबित कर दी जाए। हालाँकि, वह महिला काफी गरीब और एक स्कूल में रसोइया ही है और प्रिंस सलूजा करोड़पति परिवार का सदस्य है। ऐसे में इस तरह की कोशिश सफल होती नहीं दिख रही। 

महासमुंद के एसपी ने प्रिंस सलूजा की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि पूछताछ के बाद तीनों आरोपियों को मीडिया के सामने भी पेश किया जाएगा।

 

क्यों और कैसे जुटे हैं भाजपा नेता प्रिंस सलूजा को बचाने में-ये जानने के लिए क्लिक करें

निर्भया कांड के दोषियों की फांसी की सज़ा बरकरार- पढ़ने के लिए क्लिक करें

Comments 1

Comment Now


Previous Comments

Yahi to problem hai only Nrbhaya aropi ko sajaa aur vaisaa he gunaah karne wale ko koi aanch tam nahi...waah re Vjp waah...

Yogi LAKHAN guru

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75789