Wednesday, 20th September 2017

देश की 4.3 करोड़ विधवा महिलाओं को लेकर उनके क्या खयाल हैं? : ओवैसी

Tue, Apr 18, 2017 2:01 PM

नई दिल्ली: तीन तलाक़ पर जारी बवाल के बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने देश में मौजूद सामाजिक कुरीतियों पर कुछ चुभते हुए सवाल किए हैं. ओवैसी ने तीन तलाक को मुद्दा बनाने और विधवा महिलाओं के मामले में खामोशी पर मीडिया की भी आलोचना की.
ओवैसी ने कहा कि सभी पत्रकार, टीवी एंकर तलाक के मुद्दे में घुसे हुए हैं. आखिर देश की 4.3 करोड़ विधवा महिलाओं को लेकर उनके क्या खयाल हैं? क्या वो उन्हें आर्थिक मदद करेंगे ताकि वो दोबारा शादी कर सकें.
ओवैसी ने 2011 की जनगणना के आंकड़ों का हावाला देते हुए कहा कि देश में इस वक़्त 4.3 करोड़ विधवा महिलाएं हैं जिनमें सबसे ज्यादा हिंदू महिलाएं हैं. 20 लाख हिंदू महिलाओं अकेली हैं या पति से अलग हैं. क्या इसपर नौ बजे की प्राइम टाइम में बहस होगी?
इसके साथ ही ओवैसी ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की एक रिपोर्ट की बुनियाद पर दावा किया कि मुसलमानों के बीच तलाक की दर दूसरे समुदायों के मुकाबले कम है.
आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने समानता और धर्मनिरपेक्षता के आधार पर तीन तलाक का विरोध किया है, जबकि मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड तीन तलाक की सही ठहराता है. उनका कहना है कि तीन तलाक कुरान और शरियत के हिसाब से सही है.

Comments 0

Comment Now


Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75805