Thursday, 21st September 2017

"मेरा हमराही, मेरा आत्म विश्वास। ...... ."

Sun, Apr 9, 2017 5:23 PM

 

 

 

 

 

 

                  

 

                       

 

                                                                                                                                                                                                                                                   

 

 

 

 

अमृत राज  

मेरे इरादे को इतना कमजोर मत समझ मेरे हमराही, जो तेरी मुट्ठी में रेत दे कर, 
दरिया तुझे तैर के पार करने को कहूँ .... .
मै वो मुसाफिर मांझी हूँ, जो दरिया के बीच से रेत निकाल कर देता हूँ, तुझे तेरा घरोंदा बनाने के लिए...

मेरा इरादा नहीं है मालिकाना हक़  लेने का, 
बस साथ चल इस मुसाफिर का हमराही बन के ....
मंज़िल  की तलाश में ये रास्ते खुद ब खुद, 
इस मुसाफिर के साथ साथ तुझे भी अपना बना लेंगे....

ऐ हमराही क्या खोजते हो इस अजनबी, सुनी, उजड़ी हुई राहों पर....
बस साथ चलते रहो इस मुसाफिर के,                                                                                                                                                                                                                                                                                 
इस मुसाफिर के पैरों के छाले खुद ब खुद तुम्हे तुम्हारी मंज़िल का पता बता देंगे.....

मेरे इस कंटीली और कंकरीली  राहों  पे चलने से,
 हर एक के मायने बदल जाते है इस मुसाफिर की फितरत देखकर...
बस मेरे हमराही तू मत बदलना इस कमजोर और नाजुक ज़माने की फितरत देखकर....

 

Comments 10

Comment Now


Previous Comments

Superb

Raghavendra

Very Nice Line...Bhaiya ji...

Pradeep Yadav

good one, mushafir Amrit. Best of luck

Ved

good one, mushafir Amrit. Best of luck

Ved

Speechless

Mohammad

Very nice...

Swatantra

Congratulations Amrit, fabulous poem very great

Anil Kumar

Shaandaar ....zbrdst....Zindabaad .... Wow bhaiya g congratulations....feeling proud of uh..

Govind Yadav

Awsome

Raghavendra

Excellent

Gyanendra

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

29 %
10 %
60 %
Total Hits : 75821