Sunday, 19th November 2017

यूपी में मिला बलात्कार का लाइसेंस !

Mon, Mar 27, 2017 11:27 PM

मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठते ही एक्शन में आए योगी आदित्यनाथ के प्रदेश की स्थिति यह हो गई है कि सत्तामद में डूबे भाजपाई ब्राह्मणों ने ऐलान कर दिया है कि अब उन्हें दलितों और ओबीसी के साथ मारपीट करने, उनकी महिलाओं के साथ बलात्कार करने का लाइसेंस मिल गया है। 

बुलंदशहर में कटियाली में चार ब्राह्मण जाति के लड़के जीतू, बॉबी, रितेश और प्रवीण ने पहले एक नाबालिग दलित लड़की का गैंगरेप करने की कोशिश की। भाई के विरोध करने पर उसकी उंगलियां काट लीं, पेट में चाकू से 10 बार से ज्यादा वार किए, और मरा हुआ जानकर छोड़ गए।

 पिता शिब्बू ने जब इन घटनाओं को बताने के लिए पुलिस को फोन किया तो इलाके के एसएचओ ने उसको ही एक रात हवालात की हवा खिलाई और जमकर कुटाई की और कहा तुम अपना केस वापस लो, मासूम लड़कों को बलात्कार जैसे संगीन आरोप में न फंसाओ, उनकी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी।

पिता ने ऐसा नहीं किया तो आरोपियों के परिजनों ने 17 वर्षीय नाबालिग पीड़िता के पिता के घर की छत में छेद करके उसे बाहर निकाला और दम भर उसकी कु​टाई की। इतना ही नहीं, उसका घर लूटकर फूंक दिया। दो मोटरसाइकिलों समेत सबकुछ जलकर खाक हो गया। साथ ही आरोपियों के परिजनों ने पीड़ितों को धमकाया कि अब राज बदल गया है। भाजपा विधायक अनिल शर्मा भी हमारा, पुलिस भी हमारी है।

 इस बीच वाल्मिकी परिवार ने खेतों—खलिहानों के रास्ते भागते हुए बुलंदशहर जाकर अपनी जान बचाई। लूटपाट, आगजनी और जान से मारने की कोशिश के मामले में मनोज, मनोज की घरवाली, पंकज, मुकेश, मनीष, नीतू, सोनू, राधा शर्मा, शिवदत्त, सत्ता, वीरेंद्र और सोमू पर मुकदमा दर्ज कराया लेकिन एक भी गिरफ्तारी अबतक नहीं हुई ।

ये वारदात यूपी के बुलंदशहर जिला के थाना जहांगीराबाद के ​कटियावली गांव की है। गांव में तीन घर वाल्मिकी के हैं और पूरा गांव ब्राह्मणों का है। 14 मार्च की शाम 7.30 बजे अपने घेर (घर से अलग थोड़ी दूर पर जहां जानवरों को पालते हैं) पर पीड़िता जानवरों को बांधकर लौटने की ही वाली थी कि चार ब्राह्मण जाति के लड़कों ने उसको दबोच कर गैंगरेप किया। रेप करने वाले चारों आरोपियों की उम्र 20 से 30 साल के बीच है।

पीड़ित पक्ष के वकील रणवीर सिंह लोधी बताते हैं, ’14 मार्च की घटना का मुकदमा 18 मार्च को दर्ज हो पाया। जहांगीराबाद थाना प्रभारी श्यामवीर ​सिंह ने मुकदमा दर्ज करने की बजाए पीड़िता के पिता को ही हवालात में डाल दिया और मुकदमा नहीं लिखाने का दबाव बनाने लगे। दो दिन बाद में जब ये लोग मेरे पास आए तो एसएसपी सोनिया सिंह के हस्तक्षेप पर धारा 376, एसएसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है। हालांकि अब तक चारों में से किसी आरोपी की गिरफ्तारी पुलिस नहीं कर सकी है। पुलिस ने यह जरूर किया है कि आरोपियों के साथ मिलकर ज्यादातर सबूत मिटा दिए हैं।’

मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद पीड़ित परिवार गांव लौटने की हिम्मत नहीं कर पा रहा है, मगर सरकार की ओर से अब तक पीड़ित परिवार के लिए न तो रहने की कोई व्यवस्था की गई, न सुरक्षा दी गई और न ही कोई आर्थिक मदद मिली है। पीड़िता के भाई को बुलंदशहर जिला अस्पताल से दिल्ली रेफर कर दिया गया है। वहाँ के डॉक्टरों ने बताया कि पीड़िता के भाई राजा की हालत नाजुक है। उसे बेहतर इलाज की जरूरत है।
गौरतलब है कि 14 मार्च की शाम पीड़िता की चीख सुन उसका भाई राजा उसको बचाने के लिए दौड़ा आया। भाई को देख चारों ने लड़की को छोड़ उस पर हमला कर दिया। दरिंदों ने बचाव करते भाई के हाथ की चार उंगलियां काट दीं और 10 बार से ज्यादा बार चाकू से वार किया। इस जघन्य वारदात की सूचना के लिए पीड़िता के पिता ने रात में कई बार पुलिस के 100 नंबर पर फोन किया पर कोई नहीं आया। पीड़िता के पिता शिब्बू अन्य रिेश्तेदारों के साथ बेटे को नजदीकी अस्पताल में ले गए थे।

सत्ता बदलते ही, सवर्णों को दलितों के साथ अत्याचार, बलात्कार करने का लाइसेंस मिल गया है।

Comments 3

Comment Now


Previous Comments

Media aur others dalit kyaa kar rahe hai they should help

Yogi LAKHAN guru

Media aur others dalit kyaa kar rahe hai they should help

Yogi LAKHAN guru

Media aur others dalit kyaa kar rahe hai they should help

Yogi LAKHAN guru

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

32 %
9 %
59 %
Total Hits : 77389