Monday, 19th February 2018

रेपविरोधी भाजपा नेता रेप के मामले में गिरफ्तार

    भाजपा को जो नेता बलात्कार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था, वही कुछ ही घंटों बाद रेप की कोशिश कर बैठा। पीड़ित शिक्षिका की शिकायत में कुकर्मी भाजपा नेता को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामला कर्नाटक के रायचूर जिले का है। भाजपा का एक नेता अलप्पा अलदार्ती महिला अधिकारों की लड़ाई लड़ने के...

भाजपा का एंटी-लोकपाल बिल!

- डॉ नीलम महेंद्र - वैसे तो भारत एक लोकतांत्रिक देश है। अगर परिभाषा की बात की जाए तो यहाँ जनता के द्वारा जनता के लिए और जनता का ही शासन है लेकिन राजस्थान सरकार के एक ताजा अध्यादेश ने लोकतंत्र की इस परिभाषा की धज्जियां उड़ाने की एक असफल कोशिश की। हालांकी जिस प्रकार विधानसभा में बहुमत होने के बावजूद...

चोपड़ा साहब की बिटिया, कलुआ और राष्ट्रपति का बॉडीगार्ड!

- महेंद्र नारायण सिंह यादव - सेना के सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे को आप लोग हैं न, समझिए नहीं पाए। उसमें भारत की तीनों सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के "अपमान" का कोई इरादा हइए नहीं। पहली बात हलफनामा तब दिया था जब राष्ट्रपति मुखर्जी बाबू थे। तब ये पता ही नहीं था...

दिल्ली की दुविधा

- अजय कुमार -  दिल्ली में चुनाव के समय आम आदमी पार्टी नई थी और पूर्ण रूप से आश्वस्त होकर कह सकता हूँ कि आप के जितना कर्मठ कोई और था भी नही अतः दिल्ली की जनता ने अपना पूर्ण मतदान आम आदमी पार्टी और श्री अरविन्द केजरीवाल के पक्ष में किया तथा दिल्ली में बहुमत की सरकार बनवाई। जब जनता ने पूर्ण...

बंजर सरकार का उपजाऊ दृष्टिकोण

- रक्षा यथार्थ -  रात में  भेड़ों की रखवाली करने वाले गड़ेरिये की तरह गांव वालों को भ्रम में डाल रहे है,कि दौड़ो दौड़ो..गांव वालो, मेरी भेड़ को भेड़िया उठा रहा है, लेकिन उस गड़रिये का यह भ्रम जाल बहुत दिनों तक नहीं चला और गांव वालों ने उसकी पुकार पर आना छोड़ दिया और एक रात वह चिल्ल...

सैनेटरी पेड पर टैक्स का दर्द शुतुरमुर्ग क्या जाने !

- रक्षा यथार्थ - शुतरमुर्ग से यदि महिलाएं पूछे कि तुम्हें वस्त्र की आवश्यकता है, तो शुतरमुर्ग ताल ठोकते हुए कहेंगे कि हमें तो एक गमछा/झोला मिल जाये तो भी हमारा जीवन कट जायेगा। जनाब, आपका जीवन तो बगैर लगोंटा के भी कट जायेगा क्योंकि आप शुतरमुर्गों को आदत है अंग प्रदर्शन करने की..! घटिया पुरुषवा...

मेमॉरीज़ फॉरेवर : सारिका गिरिया

  - महेंद्र नारायण सिंह यादव -  सारिका गिरिया नाम है एक उभरती हुई लेखिका का, लेकिन उनकी एक पहचान दक्षिण भारत की मशहूर कन्ज्यूमर ड्यूरेबिल्स और इलेक्ट्रॉन्क्स चेन गिरिया’ज़ के साथ-साथ बंगलौर के गिरियाज़ चिल्ड्रन्स एक्सप्लोरियम से भी जुड़ी है। अपने पति मनीष गिरिया के साथ मिलकर उन...

नेशन वॉन्ट्स टू नो अबाउट अर्णव गोस्वामी !

   - महेंद्र नारायण सिंह यादव - नया टीवी चैनल लेकर आए पत्रकार अर्णव गोस्वामी बेहद समझदार और व्यावहारिक परिवार से आते हैं। कांग्रेसी, कम्युनिस्ट और भाजपा, तीनों का खून बहता है रगों में। चीखते-चिल्लाते तो बहुत हैं, सबको पता ही है, लेकिन जब कोई बड़का भाजपा नेता सामने हो तो मिमिया भ...

किसकी आजादी का आंदोलन था ?

-नीतू अनोखे -  क्या गांधीजी का आंदोलन भारत के लोगों की आज़ादी का आंदोलन था ? भारत में पाठ्य-पुस्तकों में विकृत इतिहास पढ़ाया जाता है ।ब्राह्मण इसे इस तरह से डिज़ाइन करते है जिसमें ब्राह्मणो का गुणगान हो  और  ब्राह्मणों की बदमाशी छिप जाए । भारत के लोगों की स्वतन्त्रता के पक्षधर...

कैसी महिला सहानुभूति ?

    - नेहा     मासूमियत सी उम्मीद लिए महिला महिला के पास आई अर्थ न आधार न पक्ष न सहमति न फेमिनिज्म का खुमार लाई  पुरुषो की सोचपर धिक्कार ये आरोप लगाई जब झूठ की पोटली थमा दुसरों की सहानिभूति पाई फिर कैसी ये महिला सहानुभूति हुई?...

लड़की दुनिया में क्यों आई?

  - नेहा   अजीब सी उलझन अजीब सी तकलीफ लड़की दुनिया में क्यों आई ?   पूछती चली आई बचपन की बोली से बढ़ती उम्र की झोली तक उत्तर न मिला मुझे एक भी हमजोली से दर्द से गुजरती हुई बचपन से सहती आई फिर भी प्रकृति ने तकलीफ भी मुझ में ही आजमा...

राजनीति एवं संगठन

- नेहा -  राजनीति सामाजिक विचारधारा का मंच है। जो कोई भी व्यक्ति यह कहता है कि उसे राजनीति पसन्द नहीं है, सिर्फ समाज सेवा पसन्द है, उसेध्यान रखना चाहिए कि यह अच्छी सोच हो सकती है किन्तु हम न राजनीति से बच सकते हैं और ही न बचा सकते हैं।  ऐसे में इस तरह की तटस्थता दिखाने वाले विचार&n...

अब जूलियट से नहीं, एंतोनियो से प्रेम करना रोमियो !

- महेंद्र नारायण सिंह यादव - रोमियो-जूलियट तो उन्हें दुश्मन नजर आने ही थे। आने भी चाहिए। रोमियो जूलियट का प्रेम उनके लिए विचित्र भी है, और घृणा की वस्तु भी है। रोमियो-जूलियट के प्रेम को देखकर ये सहज नहीं रह पाते। एकदम असहज हो जाते हैं। वे चौंक जाते हैं कि ऐसा कैसे हो सकता है। भला कोई युवक किसी...

हमें आजादी चाहिए.....

    - नेहा -  हमें आरक्षण नहीं आजादी चाहिए.... हमें आजादी चाहिए ... हमें आजादी चाहिए संकुचित सोच से... हमें आजादी चाहिए मूर्खों के विचारों से... हमें आजादी चाहिए समय की पाबन्दी से... हमें आजादी चाहि...

अबला नहीं, नारी हूँ

- नेहा   क्योकि मैं....... अबला नहीं, नारी हूँ बस इक्कीसवीं सदी से हारी हूँ द्रोपदी नहीं, काली हूँ कोहरा नहीं, आंधी हूँ क्योकि मैं....... अबला नहीं, नारी हूँ बस इक्कीसवीं सदी से हारी हूँ कायर नहीं, निडर हूँ अँधेरा नहीं, रौशनी हूँ क्योकि मैं....... अबला नहीं, नारी ह...

Videos Gallery

Poll of the day

शिवराज सरकार किसानों को बर्बाद क्यों कर रही है?

39 %
10 %
52 %
Total Hits : 81549